Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

लघुकथा- “दया” (राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’)

लघुकथा- “‘दया’’

सब्जी बाज़ार में एक निर्धन और बेबा भी सब्जी बेचती थी लेकिन उससे बहुत कम लोग ही सब्जी लेते थे एक तो उसका रंगरूप आकर्षक नहीं था और वह कुछ मँहगी भी बेचती थी।
लेकिन मैं अक्सर यह सोच कर उसी से ही जानबूझकर ही मंहगी सब्जी ले लिया करता था कि चलो इसका पति नहीं है यह कैसे अकेले घर का गुजारा करती होगी। इस प्रकार से मुझे उससे मंहगी सब्जी खरीदे पर भी आत्मसंतुष्टि मिल जाती थी और मन में प्रसन्नता के भर जाता था।
ये बात अलग है कि मैं कभी मंदिर में नगद पैसा नहीं चढ़ाता। हाँ प्रसाद के रूप में कुछ खाने योग्य ही चढ़ाता हूँं लेकिन यहाँ मुझे जाने क्यों उस बेबा में माता की छबि दिखाई देने लगती है।
000
लघुकथाकार –
©राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
संपादक ‘आकांक्षा’ पत्रिका
जिलाध्यक्ष-म.प्र लेखक संघ,टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
शिवनगर कालौनी,टीकमगढ़ (म.प्र.)
पिनः472001 मोबाइल-9893520965
E Mail- ranalidhori@gmail.com
Blog – rajeevranalidhori.blogspot.com

164 Views
You may also like:
पुनर्पाठ : एक वर्षगाँठ
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
सारे यार देख लिए..
Dr. Meenakshi Sharma
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
घर की रानी
Kanchan Khanna
बाबा अब जल्दी से तुम लेने आओ !
Taj Mohammad
बस तेरे लिए है
bhandari lokesh
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
चाहत
Lohit Tamta
आईना देखना पहले
gurudeenverma198
एक पैगाम मित्रों के नाम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
बदरवा जल्दी आव ना
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सिपाही
Buddha Prakash
✍️✍️ओढ✍️✍️
"अशांत" शेखर
हंँसना तुम सीखो ।
Buddha Prakash
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
गिरते-गिरते - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
यादें आती हैं
Krishan Singh
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
Anamika Singh
💐साधकस्य निष्ठा एव कल्याणकर्त्री💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
खुदा भेजेगा ज़रूर।
Taj Mohammad
हम गरीब है साहब।
Taj Mohammad
पिता
कुमार अविनाश केसर
प्रतीक्षा के द्वार पर
Saraswati Bajpai
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
Loading...