Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

लग गई किसकी नजर…..

परत चढ रही है,
अवसाद की,
प्यार पर,
पङ गयी किसकी नज़र,
जो था गवाह मेरी
अठखेलियोँ का,
खो गया कहाँ वो शहर,
रुठी क्योँ है जिन्दगी
किसलिए चुपचाप है,
क्या पता कब तक चलेगा
ये उदासी का पहर..
कब छिङेगी रागिनी प्यार की
फिर से,
फिर से मिलेगी जिन्दगी ..
कौन जाने कब थमेगा
मेरी मायूसियोँ का सफर.,.
मैँ करुँ या ना करुँ
इन्तज़ार,,
मेरी खुशियाँ पूरी होने का..
मेरी दुनिया पूरी होने का..
नहीँ खबर..
पर आस बांध के रखी है
तेरे प्यार पर.. ”

(अंकिता)

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Comments · 364 Views
You may also like:
फासले
Seema 'Tu hai na'
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
हम एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रात
अंजनीत निज्जर
विपक्ष की लापरवाही
Shekhar Chandra Mitra
हाथ में खंजर लिए
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
अपराधी कौन
Manu Vashistha
अद्भूत व्यक्तित्व है “नारी”
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
ऐसी दीपावली मनाएँ..….
Kavita Chouhan
उसकी दाढ़ी का राज
gurudeenverma198
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
तेरे होने की ख़बर
Dr fauzia Naseem shad
✍️क्या ये विकास है ?✍️
'अशांत' शेखर
शुक्र ए खुदा
shabina. Naaz
पिता
Aruna Dogra Sharma
प्यार-दिल की आवाज़
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
लगे मौत दिलरुबा है।
Taj Mohammad
जलने दो
लक्ष्मी सिंह
रुद्रा
Utkarsh Dubey “Kokil”
प्रतीक्षा की स्मित
Rashmi Sanjay
*यात्रा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बेजुबान
Dhirendra Panchal
मन की व्यथा।
Rj Anand Prajapati
अनुपम माँ का स्नेह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
गीत//तुमने मिलना देखा, हमने मिलकर फिर खो जाना देखा।
Shiva Awasthi
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
🙏देवी चंद्रघंटा🙏
पंकज कुमार कर्ण
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग्रह और शरीर
Vikas Sharma'Shivaaya'
Loading...