Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 21, 2022 · 1 min read

लगा हूँ…

कुछ टूटे हुए सपनों को सजाने में लगा हूँ
कुछ रूठे हुए अपनो को मनाने में लगा हूं,

ऐ आंधियो बदल लो रास्ता अपना
मै उजड़े हुए चमन को बसाने मे लगा हूँ,

उनके आसुओं को लतीफो में बदल डाला
खुद शिसकियों को अपनी दबाने में लगा हूँ,

मजहब के नाम पर तो फूंका है बस्तियों को
मैं आग नफरतों की बुझाने में लगा हूँ,

फूंक डाला अपने अरमानों को उनके खतों के साथ
खतों की राख को अब चंदन बनाने में लगा हूँ,

1 Like · 46 Views
You may also like:
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
अजनबी
Dr. Alpa H. Amin
महान है मेरे पिता
gpoddarmkg
विधाता स्वरूप पिता
AMRESH KUMAR VERMA
गीत... कौन है जो
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मां शारदा
AMRESH KUMAR VERMA
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
*हिम्मत मत हारो ( गीत )*
Ravi Prakash
हमलोग
Dr.sima
कुछ भी ना साथ रहता है।
Taj Mohammad
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
"अशांत" शेखर
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
श्री राधा मोहन चतुर्वेदी
Ravi Prakash
"पिता"
Dr. Alpa H. Amin
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
अब तो इतवार भी
Krishan Singh
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
शब्दों से परे
Mahendra Rai
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
कोई हल नहीं मिलता रोने और रुलाने से।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
बहंगी लचकत जाय
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
मौत ने की हमसे साज़िश।
Taj Mohammad
I feel h
Swami Ganganiya
🍀🌺परमात्मा सर्वोपरि🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बचपन की यादें।
Anamika Singh
“सराय का मुसाफिर”
DESH RAJ
Loading...