Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

*लेना नहीं दहेज*

*लेना नहीं दहेज*

दहेज कोढ़ है इस दुनिया में, कर लेना परहेज।
लेना नहीं दहेज कभी भी, लेना नहीं दहेज।।

ना लूंगा ना लेने दूंगा, कसम खाइये आप।
डंके की तुम चोट पे बोलो, दहेज मांगना पाप।।
दहेज प्रथा अभिशाप कहो तुम, ठोक ठोक कर मेज।
लेना नहीं दहेज कभी भी, लेना नहीं दहेज।।

सामाजिक बैठक में भी हो, सदा इसी पर जोर।
कहो लालची दहेज पिशाची, करो जोर से शोर।।
बातों से बन्दूक की गोली, मारो होकर तेज।
लेना नहीं दहेज कभी भी, लेना नहीं दहेज।।

दहेज दानवों ने बेटियां, कितनी गये हैं लील।
हाथ पांव के ऊपर उनके, जमकर ठोको कील।।
लेने देने से दहेज से, करना सभी गुरेज।
लेना नहीं दहेज कभी भी, लेना नहीं दहेज।।

फाँसी का आदेश सुनाओ, दहेज करे जो मांग।
चौराहे में लटका करके, देना उल्टा टांग।।
ठुकराने ऐसे रिश्तों को, दो संदेशा भेज।
लेना नहीं दहेज कभी भी, लेना नहीं दहेज।।

आये दिन घटना पर घटना, करती है हैरान।
आग लगाकर बहू जलाते, दुनिया के शैतान।।
बेटी के ससुराल में उसकी, गर बचवाना सेज।
देना नहीं दहेज कभी भी, देना नहीं दहेज।।

*-साहेबलाल दशरिये ‘सरल’*

1 Like · 1 Comment · 442 Views
You may also like:
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Shankar J aanjna
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
बुध्द गीत
Buddha Prakash
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...