रौशनी

रौशनी

———————–

पथ अँधेरे,
फिर भी कदम हैं बढ़ रहे,
एक रौशनी की आश में,
तुझे पाने की आश में।

पथ है कठिन,
पर हौंसले मेरे,
अनवरत बढा़ रहे,
आश को जगा रहे।

मुझे भान है,
तू है यहीं,
चल रही कहीं और तू,
ढूँढूँगा मैं ही सही,
चाहे तू जाओ कहीं
————————————— मनहरण मनहरण

123 Views
You may also like:
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं
विमल शर्मा'विमल'
अपने पापा की मैं हूं।
Taj Mohammad
बेजुबां जीव
Jyoti Khari
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग१]
Anamika Singh
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया
Krishan Singh
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
poem
पंकज ललितपुर
एक वीरांगना का अन्त !
Prabhudayal Raniwal
होते हैं कई ऐसे प्रसंग
Dr. Alpa H.
बुआ आई
राजेश 'ललित'
*~* वक्त़ गया हे राम *~*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
मत बना किसी को अपनी कमजोरी
Krishan Singh
सबसे बड़ा सवाल मुँहवे ताकत रहे
आकाश महेशपुरी
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जंगल में एक बंदर आया
VINOD KUMAR CHAUHAN
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH 9A
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
मैं आज की बेटी हूं।
Taj Mohammad
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
Loading...