Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 25, 2016 · 1 min read

रोम रोम में बेचैनी और आँखों में आँसू लायी.

आज फिर तेरी याद आई-२
रोम रोम में बेचैनी और आँखों में आँसू लाई,
आज फिर तेरी याद आई-२ !!

देखता हूँ राह घर आँगन में,
न जाने कब आओगी तुम ?
तुलसी भी है अब मुरझाई,
रोम रोम में बेचैनी और आँखों में आँसू लाई, .
आज फिर तेरी याद आई -२ !!

चेहरा तेरा याद कर-कर के,
तारीफे तेरी सोच-सोच के,
ना जाने कहा नींद गुम हुई,
लिखता हूँ अब रात रात भर,तेरी मेरी विरहाई,
रोम रोम में बेचैनी और आँखों में आँसू लाई,
आज फिर तेरी याद आई-२ !!

सावन बिता बारिश बीती,
झूलो के मौसम बीते-बीते,
दर्द छुपाये हँसी के पीछे,
खुद अपने जख्मो को सिते,
है सब कुछ पास मेरे,पर हाथ है फिर भी रिते-रिते,
अब साथ है मेरे सिर्फ तन्हाई,
रोम रोम में बेचैनी और आँखों में आँसू लाई,
आज फिर तेरी याद आई,आज फिर तेरी याई !!

अब तक याद है,मुझको वो मैसेज टोन,
जब तेरा मैसेज आता था,
मोबाइल मधुर आवाज में चिल्लाता था,
सुनकर उसकी चिल्लाहट,
मै नींद से उठ जाता था।
ना जाने क्यों की रुसवाई
रोम रोम में बेचैनी और आँखों में आँसू लाई,
आज फिर तेरी याद आई,आज फिर तेरी याद आई !!

कपिल जैन

305 Views
You may also like:
✍️आप क्यूँ लिखते है ?✍️
"अशांत" शेखर
आस्था और भक्ति
Dr. Alpa H. Amin
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरे मन के भाव
Ram Krishan Rastogi
✍️अजनबी की तरह...!✍️
"अशांत" शेखर
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
भगवान विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
करो नहीं व्यर्थ तुम,यह पानी
gurudeenverma198
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बदलती परम्परा
Anamika Singh
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
✍️सिर्फ मिसाले जिंदा रहेगी...!✍️
"अशांत" शेखर
**किताब**
Dr. Alpa H. Amin
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
✍️✍️अतीत✍️✍️
"अशांत" शेखर
ग्रीष्म ऋतु भाग ५
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हंस है सच्चा मोती
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दे सहयोग पुरजोर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
उड़ चले नीले गगन में।
Taj Mohammad
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
ऐसी बानी बोलिये
अरशद रसूल /Arshad Rasool
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
हमने की वफा।
Taj Mohammad
Loading...