Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2018 · 1 min read

रोमांस है

उम्र क्या,जब जग गया प्रेमांस है ?
मस्त मन है, जवानी को आँस है |
हँसा बुड्ढा ज्ञान बनकर, जवाँ दिल,
रूप-लिप्सा वस मिले,रोमांस है |
…….
पं बृजेश कुमार नायक

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
4 Likes · 1 Comment · 608 Views
You may also like:
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
सुकुने अहसास।
Taj Mohammad
तस्वीरे मुहब्बत
shabina. Naaz
कितनी सहमी सी
Dr fauzia Naseem shad
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
बंदिशे तमाम मेरे हक़ में ...........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
कुछ समझ लिया कीजै
Dr. Sunita Singh
“" हिन्दी मे निहित हमारे संस्कार” "
Dr Meenu Poonia
दूर क्षितिज के पार
लक्ष्मी सिंह
भगत सिंह का प्यार था देश
Anamika Singh
गुमान
AJAY AMITABH SUMAN
रमेश छंद "नन्ही गौरैया"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
घर आंगन
शेख़ जाफ़र खान
स्वर कोकिला लता
RAFI ARUN GAUTAM
*सब को मित्र बनाना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
पापा
Abhishek Pandey Abhi
तितली
Shyam Sundar Subramanian
सौ बात की एक
Dr.sima
अक्ल के अंधे
Shekhar Chandra Mitra
"लेखनी "
DrLakshman Jha Parimal
बेटियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
गलतफहमी है दोस्त यह तुम्हारी
gurudeenverma198
हमारे शुभेक्षु पिता
Aditya Prakash
# तेल लगा के .....
Chinta netam " मन "
Daily Writing Challenge : कला
'अशांत' शेखर
बुढ़ापा
Alok Vaid Azad
एक रात का मुसाफ़िर
VINOD KUMAR CHAUHAN
साँझ
Alok Saxena
* जातक या संसार मा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...