Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 23, 2021 · 2 min read

रे मनुवा!

क्या लेकर आया है रे,
क्या लेकर जाएगा,
रे मनुवा एक दिन,
सब कुछ यहीं पर छूट जाएगा!

नई नई, पहचान लेकर,
छोटी सी जान लेकर,
मैं यहां पर आया रे,
नाम वाम नाते रिश्ते,
मैंने यहीं पाया है,
नन्ही सी जान लेकर,
मैं यहां पर आया रे!

नाम वाम नाते रिश्ते,
यहीं धरे रह जाएंगे,
खाली हाथ आया था रे,
खाली हाथ जाएंगे,
रे मनुवा एक दिन,
सब कुछ यहीं पर छोड़ जाएंगे!

छोटी सी थी काया मेरी,
यहीं पर विस्तार पाया है,
घर मिला, परिवार मिला,
यहीं पर संसार बसाया है,
माता का प्यार पाया,
पिता का दुलार भी,
भाई बहन का स्नेह पाकर,
खुशियां भी यहीं पर छाई थी,
भार्या को भी यहीं पाया मैंने,
संतान भी पाई है,
छोटी सी कुटिया मेरी,
खुब लहलहाई है,
अब क्या पाना है मुझको,
इतना कुछ तो पा लिया,
जितना चाहा था मैंने,
उसको हासिल किया,
अब ना है कोई चाहत,
ना कोई भार है,
खाली हाथ आया था मैं,
ना ही कुछ ले जाने का विचार है!

यही तो मैं समझा रहा था,,
क्यों तेरा मन भटक रहा,
किस बात पर है अटक रहा,
हां नाम भी पाया तुने,
रिश्ते भी यहीं निभाएं हैं,
लेकिन ये ही सब अब,
होने वाले पराए हैं,
ये ही अब लेके तुमको,
जाने को तैयार खड़े,
थोडे से आंसुओं में,
हैं भुलाने को तैयार हुए,
अब तु ही बता रे मनुवा,
क्या कुछ कर के हो जा रहे,
जिन नाते रिश्ते में उलझा रहा,
वे ही तुझको जला रहे,
मैं फिर से पुछ रहा रे,
क्या लेकर आया है,
और क्या लेकर जाएगा,
रे मनुवा एक दिन,
सब कुछ यहीं पर छूट जाएगा!

मन ही मन मैं सोच रहा,
क्यों कर यहां पर आया मैं,
क्या ये ही सब कुछ करना था मुझको,
या फिर कुछ और भी करना है,
बस इसी बात को लेकर मैं,
अब कुछ करना चाह रहा ,
जो कर सका ना भला किसी का,
तो ना बुरा ही करके जाना है,
रे मनुवा,, अब तो,
मुझे कुछ अच्छा ही कर जाना है!!

3 Likes · 4 Comments · 285 Views
You may also like:
💐भगवतः स्मृति: च सेवा च महत्ववान्💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
✍️वो उड़ते रहता है✍️
"अशांत" शेखर
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
प्यारा तिरंगा
ओनिका सेतिया 'अनु '
जगाओ हिम्मत और विश्वास तुम
gurudeenverma198
“ अरुणांचल प्रदेशक “ सेला टॉप” “
DrLakshman Jha Parimal
तब मुझसे मत करना कोई सवाल तुम
gurudeenverma198
'ख़त'
Godambari Negi
तुम गैर कबसे हो गए ?...
ओनिका सेतिया 'अनु '
जगत जननी है भारत …..
Mahesh Ojha
दोहावली...(११)
डॉ.सीमा अग्रवाल
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
बदल गए अन्दाज़।
Taj Mohammad
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
बद्दुआ गरीबों की।
Taj Mohammad
कॉर्पोरेट जगत और पॉलिटिक्स
AJAY AMITABH SUMAN
आज आदमी क्या क्या भूल गया है
Ram Krishan Rastogi
औकात में रहिए
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
तुमसे थी उम्मीद
Anamika Singh
ऐ जिंदगी कितने दाँव सिखाती हैं
Dr.Alpa Amin
मन की बात
Rashmi Sanjay
ईश्वर की ठोकर
Vikas Sharma'Shivaaya'
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
हंस है सच्चा मोती
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उम्मीद का दामन।
Taj Mohammad
मैं तुझको इश्क कर रहा हूं।
Taj Mohammad
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
पूरी करता घर की सारी, ख्वाहिशों को वो पिता है।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...