Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 28, 2021 · 1 min read

रेलगाड़ी रेलगाड़ी

मित्रों सम्भवतः आपको स्मरण हो कि पिछले वर्ष एक रेलगाड़ी अपने गंतव्य से अलग दूसरे स्टेशन पर पहुँच गयी थी और वह भी दस घण्टे अतिरिक्त समय लेकर। वह पूरा अतरिक्त समय यात्रियों ने बिना किसी सुविधा के बिताया था। उनकी तकलीफों को ध्यान में रखकर यह रचना लिखी थी। आज एक वर्ष पश्चात आपके सम्मुख यह रचना प्रस्तुत कर रहा हूँ। अपने अमूल्य सुझावों से अवश्य अवगत कराइयेगा।

रेलगाड़ी रेलगाड़ी बन गयी है बैलगाड़ी।
पटरी पटरी चलती थी सीधे राह निकलती थी,
पहले से तय रूट थे उनपर ही वह चलती थी,
बीच बीच में टेशन थे थोड़ी देर ठहरती थी,
इन दिनों वह चलती है तिरछी आड़ी तिरछी आड़ी।
रेलगाड़ी रेलगाड़ी बन गयी है बैलगाड़ी।
समय सारणी के संग उसका बहुधा अच्छा नाता था,
कभी कभी उसमें व्यवधान माना के पड़ जाता था,
दस , बारह , पन्द्रह घण्टे लेट कभी हो जाती थी,
अब तो हफ्तों लेती है हाथ गाड़ी हाथ गाड़ी।
रेलगाड़ी रेलगाड़ी बन गयी है बैलगाड़ी।
थोड़ी कम थोड़ी ज्यादा लेकिन सुख सुविधायें थीं,
खाना पानी मिलता था माना कुछ बाधाएं थीं,
दस दस घण्टे दाना पानी का अब पता नहीं रहता,
अब तो उससे बेहतर है ठेला गाड़ी ठेला गाड़ी।
रेलगाड़ी रेलगाड़ी बन गयी है बैलगाड़ी।

9 Likes · 4 Comments · 298 Views
You may also like:
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सास-बहू
Rashmi Sanjay
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
“ विश्वास की डोर ”
DESH RAJ
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
सोने की दस अँगूठियाँ….
Piyush Goel
मेरे दिल की धड़कन से तुम्हारा ख़्याल...../लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
✍️ये भी अज़ीब है✍️
"अशांत" शेखर
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
ईश्वरीय फरिश्ता पिता
AMRESH KUMAR VERMA
तुझ पर ही निर्भर हैं....
Dr.Alpa Amin
एक ग़ज़ल लिख रहा हूं।
Taj Mohammad
कातिल ना मिला।
Taj Mohammad
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
हम है गरीब घर के बेटे
Swami Ganganiya
आ तुझको बसा लूं आंखों में।
Taj Mohammad
नफरत है मुझे
shabina. Naaz
"DIDN'T LEARN ANYTHING IF WE DON'T PRACTICE IT "
DrLakshman Jha Parimal
हमारी नींदें
Dr fauzia Naseem shad
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
औकात में रहिए
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
ग्रामीण चेतना के महाकवि रामइकबाल सिंह ‘राकेश
श्रीहर्ष आचार्य
भारतीय युवा
AMRESH KUMAR VERMA
इश्क में तुम्हारे गिरफ्तार हो गए।
Taj Mohammad
हम भाई भाई थे
Anamika Singh
✍️मुतअस्सिर✍️
"अशांत" शेखर
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
धूल जिसकी चंदन है भाल पर सजाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...