Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

रेत

रेत
—————————
जैसे भभरती है,
मुट्ठियों से भरी रेत,
वैसे ही छूट रही है,
बँधे हुए ये संबंध।

टूटते जा रहे हैं,
बँधनें प्रेम की,
और बना रहे हैं,
लहलहाते को रेगिस्तान।

फिक्र नहीं है,
ये रेतें,
काम आएगीं,
किसी के बीच दिवारें
जोड़ने की।
ये दिवारें,
तोडेंगी जरूर,
एक दूसरे की नजदीकियाँ
और बन देेगी रेगिस्तान।

तब उड़ेेंगे,
सिर्फ धूल,
एक-एक बूँदें भी,
अनमोल होगा,
तब समझ आयेगा,
टूटने से क्या होता है?

———-मनहरण ।

133 Views
You may also like:
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
बरसात
मनोज कर्ण
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरे साथी!
Anamika Singh
आस
लक्ष्मी सिंह
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
मेरी लेखनी
Anamika Singh
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
इश्क
Anamika Singh
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...