Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

रेखाओं के खेल

लक्ष्मण रेखा तोड़कर सिया के उर थी पीर
रेखाओं के खेल ये कौन बंधाता धीर
कुछ हद तक बंधन भी उचित हुआ करते हैं
आज तो मानव खुद लिख रहे अपनी तकदीर।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
156 Views
You may also like:
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
हम आज भी हैं आपके.....
अश्क चिरैयाकोटी
तीर ए नज़र से।
Taj Mohammad
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
मां
हरीश सुवासिया
वक्त लगता है
Deepak Baweja
*ससुराला : ( काव्य ) वसंत जमशेदपुरी*
Ravi Prakash
बरसात
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
■ लघुकथा / क्लोनिंग
*प्रणय प्रभात*
बात चले
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
क्या मुझे हिफ़्ज़
Dr fauzia Naseem shad
कहानियां
Alok Saxena
✍️बुनियाद✍️
'अशांत' शेखर
महाराणा प्रताप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
फिर क्युं कहते हैं लोग
Seema 'Tu hai na'
प्यार क्या बला की चीज है!
Anamika Singh
हम लिखते क्यों हैं
पूनम झा 'प्रथमा'
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
Writing Challenge- सम्मान (Respect)
Sahityapedia
आरज़ू
shabina. Naaz
दुआएं करेंगी असर धीरे- धीरे
Dr Archana Gupta
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
*अदब *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हो गए हम बे सफ़र
Shivkumar Bilagrami
గురువు
विजय कुमार 'विजय'
घर
पंकज कुमार कर्ण
माँ
आकाश महेशपुरी
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सृजन
Prakash Chandra
Loading...