Oct 17, 2016 · 1 min read

रूह

रूह
✍✍

रूह से जब अलग हो जायेगा
कैसे फिर इंसान रह जायेगा
छोड़ कर यह जहाँ चला जायेगा
रोता बिलखता छोड़ जायेगा

चलती -फिरती तेरी यह काया
मुट्ठी भर राख में सिमट जायेगी
बातें तेरी याद जमीन पर आयेगी
परियों की कहानी सुनाई जायेगी

अकड़ सारी तेरी धूमिल हो कर
लाठी सी तन कर रह जायेगी
बन तारा आसमां में चढ़ ऊपर को
सन्तति को राह हमेशा दिखायेगा

खूब कड़क बोल गूँजा करते थे
खूब दुन्दुभि तेरी बजा करती थी
मान – सम्मान भी पाया तूने बहुत
अब मूक बन चल पड़ा यहाँ से

रूह ने देह में घुस रूह को लुभाया
संग -संग प्रेम सरगम गुनगुनाया
टूटते दिल को बसन्त से महकाया
अनजान को भी अपना बनाया

जीवन संग्राम में रूह फना हो जाए
मेरा मिल मुझसे बिछड़ जायेगा
आघात गहरा दे कर चला जायेगा
बरबस फिर बहुत याद आयेगा

डॉ मधु त्रिवेदी

71 Likes · 208 Views
You may also like:
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
बहुत कुछ अनकहा-सा रह गया है (कविता संग्रह)
Ravi Prakash
कर लो कोशिशें।
Taj Mohammad
नदियों का दर्द
Anamika Singh
चाँद ने कहा
कुमार अविनाश केसर
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
*"पिता"*
Shashi kala vyas
Little sister
Buddha Prakash
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
💐प्रेम की राह पर-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लिख लेते हैं थोड़ा थोड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
जिंदगी ये नहीं जिंदगी से वो थी
Abhishek Upadhyay
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
Rainbow in the sky 🌈
Buddha Prakash
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
💐💐प्रेम की राह पर-12💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
सफर
Anamika Singh
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
ग़ज़ल
kamal purohit
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
Loading...