Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 24, 2016 · 1 min read

रूठा रुठा सा लगता है मुझको ये भगवान तभी।

गजल

ज्यादा पैसे की चाहत है, भूल गया मुस्कान तभी।।
खुदा देवता बनना चाहा नही रहा इंसान तभी।।

दया भावना बची न बिलकुल इंसां एक मशीन बना।
अंदर से हर कोई मुझको लगता है सुनसान तभी।।

केवल मतलब से ही उसके आगे शीश झुकाते हैं।
रूठा रूठा सा लगता है मुझको ये भगवान् तभी।।

सच्चाई के साथ रहो तुम इस दुनिया के मेले में।
सब पर प्रेम लुटाते चलिये हारेगा शैतान तभी

दर्द दबे थे नीवों में लाचारों के मजबूरों के
खूँ से लथपथ दीवारें थी हुये महल वीरान तभी।।

रौनक नहीं रही चेहरे पर आंखें बुझी बुझी सी हैं।
शायद सता दिया मुफलिस को दिखते हो बेजान तभी।।

राह अँधेरी भटक गये जो उनके लिये उजाला कर।
“दीप” जहाँ में मिल पायेगी तुझको भी पहचान तभी।।

प्रदीप कुमार

1 Comment · 183 Views
You may also like:
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेंढक और ऊँट
सूर्यकांत द्विवेदी
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
या इलाही।
Taj Mohammad
नारियां
AMRESH KUMAR VERMA
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
यश तुम्हारा भी होगा
Rj Anand Prajapati
मंजिल की तलाश
AMRESH KUMAR VERMA
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD KUMAR CHAUHAN
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H. Amin
Gazal
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
न्याय का पथ
AMRESH KUMAR VERMA
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
ज़िंदगी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🍀🌺प्रेम की राह पर-42🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गर्भस्थ बेटी की पुकार
Dr Meenu Poonia
वर्तमान
Vikas Sharma'Shivaaya'
मुस्कुराएं सदा
Saraswati Bajpai
गुरू गोविंद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
Loading...