Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 31, 2022 · 1 min read

रूको भला तब जाना

एक हसीन स्वप्न है
मेरे जीवन के फितरत में
जिंदगानी है संघर्ष के
चक्षु उड़ेल दूं तब जाना

सच यहीं हैं यहां बस निर्वाण
जाने कौन ये, वे सिर्फ स्नेह में
कोई कर्त्तव्य के लिए हैं यहां
कोई वांछा प्रबल है देते स्वं प्राण

बीति मरघट ने दी मुझे एक निमंत्रण
कहो न किसे ले जाऊं अपने साथ
पंचतत्व तो मेरी वपु है तो रूह क्यों
ले जाती तो रूह ही है बस पड़ा यह गात

विस्मृत तो लोग हो जाते हैं
ये भुवन छोड़ देने बाद
शक्ति फिर क्यों सर्व करें वो
पड़ा रहने दो ये अन्तिम कंकाल

मत ले जाओ, न ही संहार करो
अन्तिम हूं अनवरत नहीं कहो तो जाना
छोड़ न दो मुझे एक तन्हा मदफ़न / घट
कुम्भीपाक मिले या नाक इस रूह को

मिलों तो ये तप भी किसे देख कर
न कहो तो अपनत्व या फिर शून्य
यह गुरूर तो मिट जाएंगी एक दिन
तब आना तो ये मत कहना कैसे हो
रूको भला क्षण के तब जाना अन्त ओर

35 Views
You may also like:
मौत।
Taj Mohammad
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
नया सपना
Kanchan Khanna
मोरे मन-मंदिर....।
Kanchan Khanna
आस्था और भक्ति
Dr.Alpa Amin
✍️एक आफ़ताब ही काफी है✍️
'अशांत' शेखर
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
जुनू- जुनू ,जुनू चढा तेरे प्यार का
Swami Ganganiya
दुनिया जवाब पूछेगी
Swami Ganganiya
Corporate Mantra of Politics
AJAY AMITABH SUMAN
लौटे स्वर्णिम दौर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चाहत
Lohit Tamta
✍️इश्क़ और जिंदगी✍️
'अशांत' शेखर
खुदाई भरी पड़ी है।
Taj Mohammad
यह इश्क है।
Taj Mohammad
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
अब कैसे कहें तुमसे कहने को हमारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
पिता जीवन में ऐसा ही होता है।
Taj Mohammad
दीये की बाती
सूर्यकांत द्विवेदी
कोई ना मुश्किल-कुशा मिल रहा है।
Taj Mohammad
.✍️कबीर-मुर्शिद मेरा✍️
'अशांत' शेखर
** शरारत **
Dr.Alpa Amin
लघुकथा: ऑनलाइन
Ravi Prakash
धार छंद "आज की दशा"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तू अहम होता।
Taj Mohammad
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जय जय तिरंगा
gurudeenverma198
Loading...