Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2022 · 2 min read

रुतबा

*रुतबा*
पंडित राम भरावन शुकुल के बड़े की शादी तय हुई और शादी की तिथि पास आने पर जब उनके घर में मांगलिक अनुष्ठान होने आरंभ हुए तो उनकी धर्मपत्नी ने मोहल्ले की महिलाओं को गाने-बजाने के लिए आमंत्रित किया।पड़ोस की मिसिराइन ने जब पंडिताइन को कमर में चाबी का गुच्छा लगाए हुए देखा तो कहा कि पंडिताइन “आपका रुतबा अब कुछ दिनों का ही है।” पंडिताइन को कुछ समझ में ही नहीं आया कि मिसिराइन किस रुतबे की बात कर रही हैं, क्योंकि उन्हें कभी भी चाबी का गुच्छा रुतबा नहीं लगा।जब उनकी सास ने उन्हें ये गुच्छा सौंपा था तो कहा था, ” बहू! आज से इस घर की जिम्मेदारी तुम्हारी, मैं अब इस जिम्मेदारी से अपने आपको मुक्त करती हूँ ।” पंडिताइन ने भी यही सोच रखा था कि जब घर में बहू आ जाएगी तो उसे इस चाबी के गुच्छे के रूप में घर की जिम्मेदारी सौंपकर आजाद हो जाएँगी।
मिसिराइन की बात का जवाब देते हुए पंडिताइन ने कहा- “एक न एक दिन तो सबका ही रुतबा समाप्त होता है।इसमें कौन-सी नई बात है। जो समय रहते चेत जाता है ,उसकी इज्ज़त बनी रहती है।जो नहीं चेतता उसका रुतबा और इज्ज़त दोनों छिन जाते हैं।”
बेटे की शादी के बाद जब बहू घर आई तो पंडिताइन ने बहू की मुँह दिखाई की रस्म के लिए मोहल्ले की औरतों को बुलाया और अपने रिश्तेदारों और सभी मुहल्ले की औरतों के सामने अपनी बहू को चाबी का गुच्छा बहू को सौंपते हुए कहा,” बहू आज से इस घर की जिम्मेदारी तुम्हारी। ये लो ,इसे संभालो। मुझसे अब बुढ़ापे में जिम्मेदारी का बोझ उठाया नहीं जाता।”
पंडिताइन के इस व्यवहार को वे सभी महिलाएँ हतप्रभ हो देख रही थीं जो चाबी के गुच्छे को रुतबा मान रही थीं पर पंडिताइन के चेहरे पर गजब की संतुष्टि और आजादी का अहसास था।
डाॅ बिपिन पाण्डेय

139 Views
You may also like:
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
तेरी ज़रूरत बन जाऊं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
Nurse An Angel
Buddha Prakash
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
कर्म का मर्म
Pooja Singh
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...