Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 15, 2022 · 1 min read

रुक जा रे पवन रुक जा ।

रुक जा रे पवन रुक जा ।

कहाँ तू बहती जाए रे,
शीतल बदन तेरा एहसास जगाए रे,
तुझसे मेरी प्रीत बढ़ाये रे,
मेरा पिया मुझे याद आए रे।
रुक जा रे पवन रुक जा।।

दूर संदेशा मेरे ओठों का,
अपने ओठों में दबाये के,
हल्के-हल्के से दर्द मेरे ह्रदय का,
बह कर तू बताए दे।
रुक जा रे पवन रुक जा ।।

छू के बदन तू किधर उड़ता जाए रे,
केश मेरे घने बादल से बारिश की आस जगाए रे,
तू मंद-मंद मुस्काये रे,
प्रेम अग्नि के लपटो को बढ़ाये रे।
रुक जा रे पवन रुक जा ।।

आगोश में तेरे मेरे नैना शर्माए रे,
बहने से तेरे मेरी चूनर उड़ी-उड़ी जाए रे,
तन बदन मेरा तू महकाये रे,
पिया का अंगना याद आए रे,
रुक जा रे पवन रुक जा ।

रचनाकार –
बुद्ध प्रकाश मौदहा हमीरपुर।

2 Likes · 58 Views
You may also like:
पर्यावरण पच्चीसी
मधुसूदन गौतम
आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H. Amin
कहानी को नया मोड़
अरशद रसूल /Arshad Rasool
दिल और गुलाब
Vikas Sharma'Shivaaya'
ये नारी है नारी।
Taj Mohammad
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
ना कर गुरुर जिंदगी पर इतना भी
VINOD KUMAR CHAUHAN
कातिल ना मिला।
Taj Mohammad
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
संतुलन-ए-धरा
AMRESH KUMAR VERMA
🌺प्रेम की राह पर-58🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुक्तक
Ranjeet Kumar
नूर
Alok Saxena
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
कुत्ते भौंक रहे हैं हाथी निज रस चलता जाता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
दो दिलों का मेल है ये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Be A Spritual Human
Buddha Prakash
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
Accept the mistake
Buddha Prakash
*ओ भोलेनाथ जी* "अरदास"
Shashi kala vyas
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
आसान नहीं हैं "माँ" बनना...
Dr. Alpa H. Amin
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
हमारा दिल।
Taj Mohammad
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...