Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 26, 2022 · 1 min read

रुक क्यों जाता हैं

एक चोट जो पैर में आई
क्यों उसको तू घाव बनाता हैं
राह छोड़कर तू रुक क्यों जाता हैं।
बीज जब निकलता धरती से
कितना साहस करता होगा
उसको धरा पर रोक सके जो
ऐसा कभी पैदा हुआ नहीं तो
राह छोड़कर तू रुक क्यों जाता हैं।
बूंद बूंद पानी गिरता तब
फर्क कहाँ पड़ता पत्थर को
पर एक निरंतरता से बूंदों की
पत्थर भी दो टुकड़े हो जाता तो
राह छोड़कर तू रुक क्यों जाता है।
राजनीति को दिशा दिखाने
मोदी जैसी एक सोच है आई
एक जुगनू को सितारा बनाने
वाजपेयी सी लौ एक छाई
हिम्मत को किनारा लगाकर
राह छोड़कर तू रुक क्यों जाता है।।

48 Views
You may also like:
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
इंसान
Annu Gurjar
मेरा जीवन
Anamika Singh
*यात्रा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कभी मिलोगी तब सुनाऊँगा
मुन्ना मासूम
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
प्यार अंधा होता है
Anamika Singh
तेरा ज़िक्र।
Taj Mohammad
✍️आओ हम सोचे✍️
'अशांत' शेखर
एहतराम करते है।
Taj Mohammad
“सावधान व्हाट्सप्प मित्र ”
DrLakshman Jha Parimal
मेरी मोहब्बत की हर एक फिक्र में।
Taj Mohammad
समय और मेहनत
Anamika Singh
✍️मैंने पूछा कलम से✍️
'अशांत' शेखर
.✍️साथीला तूच हवे✍️
'अशांत' शेखर
नादानियाँ
Anamika Singh
गर्दिशे दौरा को गुजर जाने दे
shabina. Naaz
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
# किताब ....
Chinta netam " मन "
हर दिन इसी तरह
gurudeenverma198
पागल बना दे
Harshvardhan "आवारा"
नाम
Ranjit Jha
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
ईद हो जायेगी।
Taj Mohammad
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
Jyoti Khari
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
Loading...