Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 7, 2022 · 1 min read

रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ

रिशतों की मिठास अब
जीवन में कम हो रही है, क्या करे।

रोज बढ़ती जा रही अपने ही
रिशतों में खाईयाँ, क्या करे।

अपनो के बीच में भी आजकल
लोग रहने लगे है तनहाई में क्या करे।

दिल का हाल किस्से बताएँ अपना
जब सुनने वाले अपने, अपने न रहे क्या करे।

अपनों से मिला दर्द इतना गहरा था
की निकल नहीं पाएँ हम क्या करे।

वरना नाज हमें अपनी तैराकी पर
किसी तरह से कम न था क्या करे।

हार जाते है हम हमेशा लड़ाई
जब अपनों से होती है क्या करे।

वरना दूसरा में हमें हराने का
कहाँ दम था पर अब क्या करे।

रिश्तों में अब पहले वाली
वो बात रह न गई क्या करे।

~ अनामिका

6 Likes · 6 Comments · 94 Views
You may also like:
बयां सारा हम हाले दिल करेंगे।
Taj Mohammad
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
याद आयेंगे तुम्हे हम,एक चुम्बन की तरह
Ram Krishan Rastogi
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
“माँ भारती” के सच्चे सपूत
DESH RAJ
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr.Alpa Amin
प्रेम दो दिल की धड़कन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ख़ुद ही हालात समझने की नज़र देता है,
Aditya Shivpuri
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुंडलिया छंद ( योग दिवस पर)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इन ख़यालों के परिंदों को चुगाने कब से
Anis Shah
मन पीर कैसे सहूँ
Dr. Sunita Singh
कल्पना
Anamika Singh
हर हाल में ख़ुदी को
Dr fauzia Naseem shad
✍️कुछ यादों के पन्ने✍️
'अशांत' शेखर
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
अहंकार
AMRESH KUMAR VERMA
✍️आस्तीन में सांप✍️
'अशांत' शेखर
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
मेरे जैसा ये कौन है
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
दो लफ़्ज़ मोहब्बत के
Dr fauzia Naseem shad
✍️मुमकिन था..!✍️
'अशांत' शेखर
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
आने वाली नस्लों को बस यही बता देना।
सत्य कुमार प्रेमी
भक्तिरेव गरीयसी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️बहोत गर्मी है✍️
'अशांत' शेखर
Loading...