Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2022 · 1 min read

रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ

रिशतों की मिठास अब
जीवन में कम हो रही है, क्या करे।

रोज बढ़ती जा रही अपने ही
रिशतों में खाईयाँ, क्या करे।

अपनो के बीच में भी आजकल
लोग रहने लगे है तनहाई में क्या करे।

दिल का हाल किस्से बताएँ अपना
जब सुनने वाले अपने, अपने न रहे ।

अपनों से मिला दर्द इतना गहरा था
की निकल नहीं पाएँ हम क्या करे।

वरना नाज हमें अपनी तैराकी पर
किसी तरह से कम न था क्या करे।

हार जाते है हम हमेशा लड़ाई
जब अपनों से होती है क्या करे।

वरना दूसरा में हमें हराने का
कहाँ दम था पर अब क्या करे।

रिश्तों में अब पहले वाली
वो बात रह न गई क्या करे।

~ अनामिका

9 Likes · 6 Comments · 189 Views
You may also like:
_विचार प्रधान लेख_
Ravi Prakash
अतिथि तुम कब जाओगे
Gouri tiwari
✍️अश्क़ का खारा पानी ✍️
'अशांत' शेखर
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2022
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
निगाहें
जय लगन कुमार हैप्पी
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
सच्चाई लक्ष्मण रेखा की
AJAY AMITABH SUMAN
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऐसा मैं सोचता हूँ
gurudeenverma198
बाल दिवस
Saraswati Bajpai
कुछ दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पत्रकार
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गर्व से कहो हम...
Shekhar Chandra Mitra
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
बाहों में तेरे
Ashish Kumar
एक पाती पितरों के नाम
Ram Krishan Rastogi
उस पार
shabina. Naaz
पापाचार बढ़ल बसुधा पर (भोजपुरी)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मन ही बंधन - मन ही मोक्ष
Rj Anand Prajapati
🌀🌺🌺कुछ साख़ बाक़ी रखना🌺🌺🌀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
जयति जयति जय , जय जगदम्बे
Shivkumar Bilagrami
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
Anil Mishra Prahari
गीत
सूर्यकांत द्विवेदी
द्रौपदी मुर्मू'
Seema 'Tu hai na'
ऐसा ही होता रिश्तों में पिता हमारा...!!
Taj Mohammad
★नज़र से नज़र मिला ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मानव_शरीर_में_सप्तचक्रों_का_प्रभाव
Vikas Sharma'Shivaaya'
Loading...