Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 9, 2021 · 2 min read

रिश्तों की डोर

रिश्तों की डोर
~~~~~~~~~~~

पीहर छोड़ चली आई मैं, किस निर्मोही के संग,
पी की बतिया,पी संग रतिया सब हो गई है भंग।
वो कातिल अदाएं, वो मासूम शरारतें,
क्यों रुखसत हुई सब, वफा की वो बातें।
सालोंसाल बीता यौवन,करुँ अब किस अन्जाने के संग…

पीहर छोड़ चली आई मैं,किस निर्मोही के संग !

स्नेह पिया का पाकर खुश थी,
आहट पाकर मचल जाती थी,
वो भ्रमरगान हर पुष्प पर करता,
मकसद समझ मैं न पाती थी।
हम रोती बस विरह में उनकें,
उसने तो प्रेम छलावा किया,
हम समझी जन्मों का बंधन,
उसने तो बस मधुपान किया।
उजड़ जाएं उनके नवप्रीत के सपने,नवतरुणी के संग…

पीहर छोड़ चली आई मैं, किस निर्मोही के संग !

प्रेमसौंदर्य को समझ न पाया,
चपल चौकड़ी भरता मन में,
भावविदीर्ण हो बिखर जाए जो,
नयनों की इक मृगतृष्णा में।
जुल्म प्रीत का किया है उसने,
घिर भावशून्यता चहुँओर,
होती क्या है इतनी नाजुक,
पिय संग रिश्तों की डोर।
झूठी थी वो स्नेह पिया की, काश वो आनंद उमंग…

पीहर छोड़ चली आई मैं, किस निर्मोही के संग !

नारी सुलभ गुण करुणा का,
दया भाव में बह जाती,
सपनें बुनती जज़्बातों का,
तनिक नहिं शक कर पाती।
झूठे प्रेम शिकारी बनकर,
आता कोई पाषाण हृदय,
विचलित करता प्रेमजाल में,
याचक बनकर युवक निर्दय।
स्मृतिपटल से विस्मृत हो जाए ,अब वो मुलाकात प्रसंग…

पीहर छोड़ चली आई मैं, किस निर्मोही के संग !

खोकर धैर्य अधीर बना,
फिर मायापाश में फंस गया वो,
मेरे संग अंतरंग पलों का,
कैसा इंसाफ किया है वो।
मांग उजड़ गई कह नहीं सकती,
मांग बिछुड़ गयी कहती मैं,
किस पाथर संग नेह लगायी,
बाबुल की पसंद निभाती मैं ।
क्यों सौंपा दिल, नजरों के भरोसे उस निर्दयी के संग…

पीहर छोड़ चली आई मैं, किस निर्मोही के संग !

किस पाथर संग नेह लगायी,
बाबुल की पसंद निभाती मैं….

मौलिक एवं स्वरचित

© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०९/०७/२०२१
मोबाइल न. – 8757227201

12 Likes · 10 Comments · 1881 Views
You may also like:
# अव्यक्त ....
Chinta netam " मन "
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
🌺🌻🌷तुम मिलोगे मुझे यह वादा करो🌺🌻🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐प्रेम की राह पर-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुस्तक की पीड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
Utsav Kumar Aarya
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
गुरुवर
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
Dr. Kishan Karigar
अपने मंजिल को पाऊँगा मैं
Utsav Kumar Aarya
बेटी जब घर से भाग जाती है
Dr. Sunita Singh
यादें आती हैं
Krishan Singh
वतन से यारी....
Dr. Alpa H. Amin
जिंदगी जब भी भ्रम का जाल बिछाती है।
Manisha Manjari
ईश्वर के संकेत
Dr. Alpa H. Amin
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
रसीला आम
Buddha Prakash
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
तेरी नजरों में।
Taj Mohammad
"दोस्त"
Lohit Tamta
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
छलकाओं न नैना
Dr. Alpa H. Amin
खींच तान
Saraswati Bajpai
Loading...