Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 8, 2022 · 1 min read

“रिश्ते”

🌹”रिश्ते” 🌹
==========

“ये रिश्ते” आज अपनी अहमियत खो बैठे !
वो तो बस निजी स्वार्थ तक ही सिमट बैठे !
रिश्तों में जो गर्माहट होती थी कुछ पहले…
आज की तिथि में वो पूर्ण उदासीन हो बैठे!!

सदाचार, संस्कार का क्षय अनवरत जारी…
धीरे – धीरे हो रहे रिश्तेदार कुछ अत्याचारी !
उन्हें कोई मतलब नहीं ये रिश्ते बचे या मिटे,
बस, खुद टिकना है उन्हें रेस में लंबी पारी!!

रिश्ते जाए भाड़ में बर्ताव उनके कड़े-कड़े !
पर बच जाए चंद काग़ज़ के टुकड़े हरे-हरे !
जो कुछ हो बस, अपनी सांसें चलती रहे…
औरों को जहन्नुम पहुॅंचाने को वे खड़े-खड़े!!

खुद को न पहचान पाए वो रिश्ते क्या जानें ?
रिश्तेदारों के साथ करते रहे वे खूब मनमाने !
झेल रहे आज हम इन रिश्तों के झूठे बहाने !
पता नहीं बेईमान रिश्ते चलेंगे कितने ज़माने!!

© अजित कुमार “कर्ण” ✍️
~ किशनगंज ( बिहार )
@सर्वाधिकार सुरक्षित ।
( #स्वरचित_एवं_मौलिक )
दिनांक :- 26 / 06 / 2022.
प्रेषित :- 08 / 07 / 2022.
_______________________________

4 Likes · 4 Comments · 172 Views
You may also like:
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
बुध्द गीत
Buddha Prakash
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
महँगाई
आकाश महेशपुरी
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
Loading...