Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 27, 2022 · 1 min read

रिश्ते

कहीं मसरूफियत तेरी न बने रिश्ता ए तबाही
रिश्ते भी चाहते है तवज्जो अदायगी ।

फुरसत में कभी बैठो बयां हाल-ए-दिल करो
होगी तसब्वुर दिल में ख़ामख्वाह ताज़गी ।

इस नामुराद वक्त से चुरा ले पल दो पल
बेफ़िक्र होके कल से जी ले आज ज़िन्दगी ।

बख्शी खुदा ने जो तमाम रिश्तों को नेअमते
तहज़ीब से संवार ले रिश्तों की सादगी |

तफ्शीश में लगा है तू मुनाफ़े कहां हुए ?
दिल में सुकूं रख, कर खुदा की बन्दगी ।

मुकम्मल कहां हुई किसी की सारी चाहते
फुरसत नहीं तू जाने क्या है तेरी तृष्णगी ।

1 Like · 85 Views
You may also like:
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️लोकशाही✍️
"अशांत" शेखर
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
तेरे बिन
Harshvardhan "आवारा"
जूतों की मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
नियत मे पर्दा
Vikas Sharma'Shivaaya'
सरकारी चिकित्सक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जीना अब बे मतलब सा लग रहा है।
Taj Mohammad
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
मन की बात
Rashmi Sanjay
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
महँगाई
आकाश महेशपुरी
"DIDN'T LEARN ANYTHING IF WE DON'T PRACTICE IT "
DrLakshman Jha Parimal
देह मिलन
Kavita Chouhan
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
Little sister
Buddha Prakash
*शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
*इस बार पार कर दो (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
माँ
आकाश महेशपुरी
महसूस करो
Dr fauzia Naseem shad
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" राज "
Dr Meenu Poonia
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
बहुत अच्छा लगता है ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
लहरों का आलाप ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
Loading...