Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

रिश्ते

सिक्कों की खनक से बजाने लगे हैं
लोग आजकल रिश्तों को आजमाने लगे हैं।।
****
जिस्म की भूख से लबालब भर गए जब
फिर तोहमत वो यारो लगाने लगे हैं।।
****
नया कोई सौदागर लगायेगा बोली
इस कद्र अपनी महफ़िल सजाने लगे हैं।।
****
वफ़ा की वो कीमत कहाँ जान पाए
सदियों की महोब्बत पल में भुलाने लगे हैं।।
****
वक़्त- ए-हालात “दीप” समझे तो होते
जज्बातों में बहकर जो रूलाने लगे हैं।।
****
कुलदीप दहिया “मरजाणा दीप”

1 Like · 33 Views
You may also like:
सच तो यह है
gurudeenverma198
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
मां के समान कोई नही
Ram Krishan Rastogi
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H. Amin
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
लांगुरिया
Subhash Singhai
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
जीतने की उम्मीद
AMRESH KUMAR VERMA
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
अनोखी सीख
DESH RAJ
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
जल है जीवन में आधार
Mahender Singh Hans
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ज़िंदा हूं मरा नहीं हूं।
Taj Mohammad
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तल्खिय़ां
Anoop Sonsi
मोहब्बत में दिल।
Taj Mohammad
यादें आती हैं
Krishan Singh
परिवार
Dr Meenu Poonia
तन्हा हूं, मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
राम ! तुम घट-घट वासी
Saraswati Bajpai
🙏मॉं कालरात्रि🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
Loading...