Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 30, 2021 · 2 min read

रिश्ते का मोह !

रिश्ते का मोह !
___________

कितना बड़ा अवरोध है ये !
अपनों से रिश्ते का मोह….
जो एक सीमा से आगे बढ़ने ही नहीं देता !
मार्ग ही आगे का अवरूद्ध ये कर देता !!

मन की तनिक भी नहीं चलने देता !
दोराहे पर लाकर खड़े ये कर देता !!
मन की भावनाओं के आड़े आ जाता !
किंकर्तव्यविमूढ़ता के भाव जागृत ये कर देता !!

कितना बड़ा अवरोध है ये !
अपनों से रिश्ते का मोह….

एक ऐसा अदृश्य सा बंधन है ये ….
कुछ पता भी नहीं चलने देता !!
सारी प्रक्रियाएं बस, यूॅं ही चलती रहती !
और मनुष्य कर्त्तव्य-पथ पर अपने….
बस, किसी तरह से आगे बढ़ते रहता ‌!!

अदृश्य चुम्बक की तरह सदा ये खींचता रहता !
अज्ञात चुम्बकीय शक्ति जैसा प्रभावित ये करता !!
ममता मोह का ये भॅंवरजाल बाॅंध के खुद में रखता !
रिश्ते का ये मोह और न जाने क्या-क्या है कर सकता !!

कितना बड़ा अवरोध है ये !
अपनों से रिश्ते का मोह….

सीमित दायरे में ही बाॅंध के ये रखता !
आगे की कुछ और सोचने ही नहीं देता….
ख़ास चीज़ों को ही कर्तव्य के दायरे में लाता….
उससे आगे की सोच कुंठित ही करता जाता….

निष्पक्षता पे भी कभी ये प्रश्न-चिन्ह लगाता !
लोगों की नज़रों में भी कभी-कभी झुकाता !!
असमंजस की स्थिति में फॅंसा कर ये रखता !
रिश्तों तक ही किसी की दुनिया सीमित रखता !!

कितना बड़ा अवरोध है ये !
अपनों से रिश्ते का मोह….

जो कोई भी रिश्ते का ये मायाजाल तोड़ता !
दिलो-दिमाग उसका सदा स्वतंत्र होके रहता !!
खुले आकाश में वो स्वच्छंद विचरण करता !
हर नैसर्गिक चीज़ों से वो समान बर्ताव करता !!

समाज – सेवा के लिए स्वतंत्र वो हो सकता !
देश-दुनिया के और भी करीब पहुॅंच सकता !!
संसार के हर प्राणी की आह वो सुन सकता !
त्याग के ये बंधन निर्बाध विचरण कर सकता !!
त्याग के ये बंधन निर्बाध विचरण कर सकता !!

सचमुच, इस नश्वर से संसार में….
कुछ कर गुजरने के लिए….
कितना बड़ा अवरोध है ये !
अपनों से रिश्ते का मोह….
अपनों से ये रिश्ते का मोह….

__स्वरचित एवं मौलिक ।

© अजित कुमार कर्ण ।
-__किशनगंज ( बिहार )

7 Likes · 4 Comments · 732 Views
You may also like:
मातृभूमि
Rj Anand Prajapati
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
नख-शिख हाइकु
Ashwani Kumar Jaiswal
अल्फाजों में लिख दिया है।
Taj Mohammad
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
हर हाल में ख़ुदी को
Dr fauzia Naseem shad
*राखी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पहले वाली मोहब्बत।
Taj Mohammad
'समय का सदुपयोग'
Godambari Negi
अमृत महोत्सव
विजय कुमार अग्रवाल
जय जय इंडियन आर्मी
gurudeenverma198
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
भारतीय सभ्यता की दुर्लब प्राचीन विशेषताएं ।
Mani Kumar Kachi
✍️दहशत में है मजारे✍️
'अशांत' शेखर
हर ख़्वाब झूठा है।
Taj Mohammad
पिता
Saraswati Bajpai
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
मां
Umender kumar
✍️किसान की आत्मकथा✍️
'अशांत' शेखर
मौसम मौसम बदल गया
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
जय-जय भारत!
अनिल मिश्र
सबको मतलब है
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी की अहमियत।
Taj Mohammad
चतुर्मास अध्यात्म
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कौन थाम लेता है ?
DESH RAJ
सबको दुनियां और मंजिल से मिलाता है पिता।
सत्य कुमार प्रेमी
*बुरे फँसे कवयित्री पत्नी पाकर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
Loading...