Sep 17, 2016 · 1 min read

राह में हम अब तुम्हारी कभी नही आयेगे/मंदीप

राह में हम अब तुम्हारी कभी नही आयेगे,
तुम को इस जहान में अब अकेला छोड़ जायेगे।

ढूढने से भी ना मिलु कभी तुम्हे,
मेरे ख्याल तुम को बहुत सतायेंगे।

याद करोगी मेरी बातो को जब भी,
मेरे हँसाने वाले लतीफे ही तुम को बहुत रुलायेंगे।

गुजरे का जब भी पल हसीन कोई,
उन पलो में हम ही तुम्हें नजर आयेगें।

रहेगी ख्वाइस “मंदीप” की हमेसा,
मर कर भी तेरे दिल में ही समायेगे।

मंदीपसाई

108 Views
You may also like:
दिल्ली की कहानी मेरी जुबानी [हास्य व्यंग्य! ]
Anamika Singh
💐प्रेम की राह पर-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया
Krishan Singh
बेजुबां जीव
Jyoti Khari
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
【21】 *!* क्या आप चंदन हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता भगवान का अवतार होता है।
Taj Mohammad
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मां-बाप
Taj Mohammad
🌷"फूलों की तरह जीना है"🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
एक दौर था हम भी आशिक हुआ करते थे
Krishan Singh
शायरी ने बर्बाद कर दिया |
Dheerendra Panchal
तपिश
SEEMA SHARMA
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
Loading...