Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 9, 2016 · 1 min read

राहें माँ देख रही होगी

चाहत में थोड़े पैसे की गाँव मैं छोड़ आया हूँ
मिट्टी की सौंधी खुशबू से बंधने तोड़ आया हूँ
राहें माँ देख रही होगी छाँव में बैठ पीपल के
न हिना हाथों से उतरी है वो प्रिया छोड़ आया हूँ

– ‘अश्क़’

1 Like · 1 Comment · 116 Views
You may also like:
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H. Amin
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
वो
Shyam Sundar Subramanian
करते रहो सितम।
Taj Mohammad
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नशामुक्ति (भोजपुरी लोकगीत)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
एक पल में जीना सीख ले बंदे
Dr.sima
घड़ी
Utsav Kumar Aarya
गन्ना जी ! गन्ना जी !
Buddha Prakash
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
घर की इज्ज़त।
Taj Mohammad
धीरे-धीरे कदम बढ़ाना
Anamika Singh
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
पिता
Arvind trivedi
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:38
AJAY AMITABH SUMAN
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
जल की अहमियत
Utsav Kumar Aarya
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
बचपन पुराना रे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पापा मेरे पापा ॥
सुनीता महेन्द्रू
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
आत्महत्या क्यों ?
Anamika Singh
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
जीवन मे कभी हार न मानों
Anamika Singh
“माटी ” तेरे रूप अनेक
DESH RAJ
Loading...