Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#3 Trending Author
Jul 1, 2022 · 1 min read

रास्ता

अपनो को मंजिल तक
पहुंचाने के लिए
मै रास्ता बन गया
सब चले गए मंजिल तक
मुझको रोंद कर
और मै वही पड़ा जर्जर हो गया।

~अनामिका

2 Likes · 2 Comments · 89 Views
You may also like:
फिक्र ना है किसी में।
Taj Mohammad
बदलती परम्परा
Anamika Singh
✍️✍️शिद्दत✍️✍️
'अशांत' शेखर
खाली पैमाना
ओनिका सेतिया 'अनु '
मन का मोह
AMRESH KUMAR VERMA
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr.Alpa Amin
चाँद और चाँदनी का मिलन
Anamika Singh
*डॉक्टर भूपति शर्मा जोशी की कुंडलियाँ : एक अध्ययन*
Ravi Prakash
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
विचलित मन
AMRESH KUMAR VERMA
💐 गुजरती शाम के पैग़ाम💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वैदेही से राम मिले
Dr. Sunita Singh
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
खड़े सभी इक साथ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्वर कोकिला
AMRESH KUMAR VERMA
अपने मन की मान
जगदीश लववंशी
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
चलो करें धूम - धड़ाका..
लक्ष्मी सिंह
जीएं हर पल को
Dr fauzia Naseem shad
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
मेरे वतन मेरे चमन ,तुम पर हम कुर्बान है
gurudeenverma198
प्रिय
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मुझपे लफ़्ज़ों का
Dr fauzia Naseem shad
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
वादी ए भोपाल हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रक्षाबंधन गीत
Dr Archana Gupta
दिल हमारा।
Taj Mohammad
Loading...