Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

राष्ट्रीयता की भावना

जनसाधारण में राष्ट्र के प्रति समर्पित भाव एवं राष्ट्र के प्रति गौरव भावना के संचार एवं विकास में राजनेताओं के अंतर्निहित आदर्श , नैतिक मूल्यों एवं व्यक्तिगत चरित्र की प्रमुख भूमिका होती है। भ्रष्ट चरित्रहीन नेता देश की जनता में राष्ट्रीयता की भावना के विकास में बाधक सिद्ध होते हैं।

1 Like · 2 Comments · 253 Views
You may also like:
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
बेरूखी
Anamika Singh
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
मेरे साथी!
Anamika Singh
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
💔💔...broken
Palak Shreya
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
पिता
Neha Sharma
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
रफ्तार
Anamika Singh
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
अरदास
Buddha Prakash
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...