Jan 18, 2022 · 1 min read

राष्ट्रवाद का रंग

राष्ट्रवाद का रंग
~~°~~°~~°
राष्ट्रवाद का रंग फिजां मे,
जब से सपूतों ने घोला है।
आस्तीन के सांप की पोल खुली है,
हर बच्चा-बच्चा बोला है।

कीड़े-मकोड़े ऐसे बिलबिला रहे,
जैसे खौला जल,किसी ने डाला है ।
अनल ज्योति में जलने को आतुर ,
ग़ाफ़िल पतंगा भी तड़प रहा है ।

दगाबाज़ों का आगाज तो देखो ,
कांटो से खुशबू मिलती थी।
दामन में दाग दिखता नहीं जब तो ,
फूलों से ही,उसे चुभन होती है ।

जख्म गहरे थे, मुस्कुराते नित्यदिन ,
जख्म भर गए, मुँह खोला है ।
विष की पोटली खाली पड़ गई तो ,
लफ़्ज़ों से ही,जहर को घोला है ।

दनुज बड़ा षड़यंत्र रचाकर ,
देश के टुकड़े चाह रहा ।
पर मत भूलो एक कन्हैया ,
चक्र सुदर्शन लेकर है खड़ा ।

सबल द्विज कुछ संकीर्ण स्वार्थवश ,
दुर्जन बन कर, डोल रहा ?
भूल गये क्यों अटल प्रतिज्ञा ,
अब हिंद की सीमा बोल रहा।

पतझड़ का मौसम बेदर्द है ,
झड़ने ने दो पटुपर्ण ज़हरी ।
देखो वसंत में नई कोपलें आएगी,
राष्ट्रवाद की जड़ें है गहरी ।

राष्ट्रवाद से घुटन किसी को,
तो फिर लहू ही गंदा है ।
कैसा है इस देश का कानून ,
क्यों आज़ाद दरिन्दा है ?

तरुण जोश अब जाग उठा है ,
मौसम ने भी ली अंगराई है ।
हर लम्हा वतन के लिए ही जियुँ अब ,
सबने मिलकर ये कसमें खाई है।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १८ /०१ / २०२२
माघ, कृष्णपक्ष,प्रतिपदा
२०७८, विक्रम सम्वत,मंगलवार
मोबाइल न. – 8757227201

6 Likes · 2 Comments · 503 Views
You may also like:
मां
हरीश सुवासिया
प्यार, इश्क, मुहब्बत...
Sapna K S
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
-:फूल:-
VINOD KUMAR CHAUHAN
🌺🌺Kill your sorrows with your willpower🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सूरज काका
Dr Archana Gupta
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
लड़कियों का घर
Surabhi bharati
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:35
AJAY AMITABH SUMAN
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H.
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
दिनेश कार्तिक
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
** शरारत **
Dr. Alpa H.
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कर्ज
Vikas Sharma'Shivaaya'
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
पितृ स्तुति
yadu.dushyant0
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
खो गया है बचपन
Shriyansh Gupta
Loading...