Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 29, 2017 · 1 min read

रावण

रावण

हर वर्ष मेरा
पुतला जलाते हो
बुराई पर अच्छाई का
दम भी भरते हो
कभी देखा खुद को
क्या क्या हुनर दिखाते हो
घटनाएँ घट जाये
फिर लकीर पीटते हो
मेरे पुतले में लगी आग से
क्या अपने पाप धोते हो !

कभी अपने शहर की
गली गलियारो में
होते न्याय पर अन्याय का
हिसाब रखते हो
या कि साल दर साल
मेरा पुतला जलाकर
हाथ झाड़ लेते हो
हो गयी
बुराई पर अच्छाई की जीत
मान लेते हो
या कभी बुराई पर
अच्छाई की जीत का
कुछ हिसाब किताब रखते हो

मीनाक्षी भटनागर दिल्ली
स्वरचित
27-9-2017

1 Like · 308 Views
You may also like:
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बरसात
मनोज कर्ण
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Keshi Gupta
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Kanchan Khanna
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
Loading...