Oct 8, 2016 · 1 min read

रावण

हर वर्ष जलाते है रावण
फिर भी जिन्दा है रावण
वो तो केवल एक रावण
आज कल तो है अनगिनत
छदम वेष आज में घूमता है
जन -जन का त्रास करता है

नई सुरक्षित है आधुनिक सीता
भाती नहीं है रावण को गीता
उपदेश उसको देना है बेकार
समझाना है उसको तिरस्कार
नहीं आज सीते के पास कोई
हैं सुरक्षित अभेदी लक्ष्मण रेखा

आज जरूरत नहीं रावण को
कोई छदम वेष रखने की
वो तो दम्भ भर करता है हरण
चलती फिरती सीता का
न ही भय उसको लोक लज्जा का
क्योंकि वह है पापी निर्भर

वो रावन फिर भी अच्छा
मर्यादा सदाचार में बँधा
नहीं रखा उसने सीते को महल में
ठहराया उसे अशोक वाटिका में
वो केवल जाता था मिलने
आन मान का रखता था ध्यान
आज सरेआम रावन करता
चीर हरण किसी सीता का
कैसी है यह मानवता की गरिमा
नहीं डरता है वो अनुशासन से
रोज तरूणियों से लूटपाट
करना ही है उसके काम

ऐसे ही रावण रहा सक्रिय धरा पर
वो दिन दूर नही होगा जब
जब सीते रखेगी रणचण्डी रूप
रावण होगा नतमस्तक भैरों सदृश
सीते हो सावित्री हो या अनुसूया
मान सम्मान है सबको प्यारा

डॉ मधु त्रिवेदी

73 Likes · 221 Views
You may also like:
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
सलाम
Shriyansh Gupta
अख़बार
आकाश महेशपुरी
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ५]
Anamika Singh
चेहरा अश्कों से नम था
Taj Mohammad
ग्रीष्म ऋतु भाग 1
Vishnu Prasad 'panchotiya'
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
खेत
Buddha Prakash
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
An abeyance
Aditya Prakash
महँगाई
आकाश महेशपुरी
विश्व विजेता कपिल देव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मत भूलो देशवासियों.!
Prabhudayal Raniwal
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
दर्द भरे गीत
Dr.sima
अजीब कशमकश
Anjana Jain
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
हाल ए इश्क।
Taj Mohammad
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
बुध्द गीत
Buddha Prakash
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...