Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2016 · 1 min read

रावण

हर वर्ष जलाते है रावण
फिर भी जिन्दा है रावण
वो तो केवल एक रावण
आज कल तो है अनगिनत
छदम वेष आज में घूमता है
जन -जन का त्रास करता है

नई सुरक्षित है आधुनिक सीता
भाती नहीं है रावण को गीता
उपदेश उसको देना है बेकार
समझाना है उसको तिरस्कार
नहीं आज सीते के पास कोई
हैं सुरक्षित अभेदी लक्ष्मण रेखा

आज जरूरत नहीं रावण को
कोई छदम वेष रखने की
वो तो दम्भ भर करता है हरण
चलती फिरती सीता का
न ही भय उसको लोक लज्जा का
क्योंकि वह है पापी निर्भर

वो रावन फिर भी अच्छा
मर्यादा सदाचार में बँधा
नहीं रखा उसने सीते को महल में
ठहराया उसे अशोक वाटिका में
वो केवल जाता था मिलने
आन मान का रखता था ध्यान
आज सरेआम रावन करता
चीर हरण किसी सीता का
कैसी है यह मानवता की गरिमा
नहीं डरता है वो अनुशासन से
रोज तरूणियों से लूटपाट
करना ही है उसके काम

ऐसे ही रावण रहा सक्रिय धरा पर
वो दिन दूर नही होगा जब
जब सीते रखेगी रणचण्डी रूप
रावण होगा नतमस्तक भैरों सदृश
सीते हो सावित्री हो या अनुसूया
मान सम्मान है सबको प्यारा

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
73 Likes · 337 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
There are only two people in this
There are only two people in this
Ankita Patel
■ बातों-बातों में...
■ बातों-बातों में...
*Author प्रणय प्रभात*
नर नारी
नर नारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*मेल मिलाप  (छोटी कहानी)*
*मेल मिलाप (छोटी कहानी)*
Ravi Prakash
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
बच्चे बूढ़े और जवानों में
बच्चे बूढ़े और जवानों में
विशाल शुक्ल
सच्ची मोहब्बतें कहां पैसों का खेल है!
सच्ची मोहब्बतें कहां पैसों का खेल है!
अशांजल यादव
I thought you're twist to what I knew about people of modern
I thought you're twist to what I knew about people of modern
नव लेखिका
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
****उज्जवल रवि****
****उज्जवल रवि****
Kavita Chouhan
क्रोध
क्रोध
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
Kumar lalit
ਰੁੱਤ ਵਸਲ ਮੈਂ ਵੇਖੀ ਨਾ
ਰੁੱਤ ਵਸਲ ਮੈਂ ਵੇਖੀ ਨਾ
Surinder blackpen
ईच्छा का त्याग -  राजू गजभिये
ईच्छा का त्याग - राजू गजभिये
Raju Gajbhiye
लोकतंत्र
लोकतंत्र
Sandeep Pande
💐अज्ञात के प्रति-118💐
💐अज्ञात के प्रति-118💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम तमाशा थे ज़िन्दगी के लिए
हम तमाशा थे ज़िन्दगी के लिए
Dr fauzia Naseem shad
कल हमारे साथ जो थे
कल हमारे साथ जो थे
ruby kumari
वही पर्याप्त है
वही पर्याप्त है
Satish Srijan
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
काले घने बादल ढक लेते हैँ आसमां कुछ पल के लिए,
काले घने बादल ढक लेते हैँ आसमां कुछ पल के लिए,
Dr. Rajiv
Life is too short to admire,
Life is too short to admire,
Sakshi Tripathi
"किसान"
Slok maurya "umang"
जीवन दुखों से भरा है जीवन के सभी पक्षों में दुख के बीज सम्मि
जीवन दुखों से भरा है जीवन के सभी पक्षों में दुख के बीज सम्मि
Ms.Ankit Halke jha
हर सीख बेटियों को--------
हर सीख बेटियों को--------
Dr.Pratibha Prakash
तेरे मेरे बीच में
तेरे मेरे बीच में
नेताम आर सी
"कहानी अउ जवानी"
Dr. Kishan tandon kranti
कर रहे हैं वंदना
कर रहे हैं वंदना
surenderpal vaidya
// प्रसन्नता //
// प्रसन्नता //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...