Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2022 · 1 min read

राम

राम हमारे जनमानस की धड़कन है ।
राम चरित ही निज संस्कृति का उद्‌गम है ।
राम हमारा दर्शन व आध्यात्म है ।
राम प्रेरणा और सकल सब ज्ञान हैं ।
हृदय राममय सकल मोक्ष का द्वार है ।
राम हमारा भावमयी संसार हैं ।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
3 Likes · 4 Comments · 210 Views
You may also like:
ये दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
✍️मातारानी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
दिल-ए-रहबरी
Mahesh Tiwari 'Ayen'
एक मुठी सरसो पीट पीट बरसो
आकाश महेशपुरी
నా తెలుగు భాష..
विजय कुमार 'विजय'
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
HAPPY BIRTHDAY PRAMOD TRIPATHI SIR
★ IPS KAMAL THAKUR ★
*छतरी ने कमाल दिखलाया (बाल कविता)*
Ravi Prakash
'कई बार प्रेम क्यों ?'
Godambari Negi
वक्त की कीमत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हो गए हम बे सफ़र
Shivkumar Bilagrami
बाग़ी फ़नकार
Shekhar Chandra Mitra
शहीद उधम सिंह नमन तुम्हें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आजमाइशों में खुद को क्यों डालते हो।
Taj Mohammad
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
✍️✍️हमदर्द✍️✍️
'अशांत' शेखर
करनी होगी जंग ( गीत)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विश्वेश्वर महादेव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ये पूजा ये गायन क्या है?
AJAY AMITABH SUMAN
वो चाहता है उसे मैं भी लाजवाब कहूँ
Anis Shah
कहानी *"ममता"* पार्ट-2 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
कविता
Sunita Gupta
तेरे ख्वाब सदा ही सजाते थे
अनूप अंबर
सावन में साजन को संदेश
Er.Navaneet R Shandily
मेरा साया
Anamika Singh
चलना सिखाया आपने
लक्ष्मी सिंह
हर फौजी की कहानी
Dalveer Singh
आजमाते रहिए
shabina. Naaz
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...