Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 29, 2021 · 1 min read

“राम-नाम का तेज”

================================
मन में एक डर–सा समाया हुआ था!
जीवन मेरा- अंधेरों से घिरा हुआ था।
न जाने कब रोशनी हुई मन-मंदिर में!
राम-नाम का ही- तेज छाया हुआ था।।
*****
मेरे जीवन का अंधकार छट गया था!
मन में राम-नाम का तेज बढ़ गया था।
कृपा हुई “श्रीराम” की मुझ गरीब पर!
मेरे अन्दर का सारा डर चला गया था।।
*****
हे रामजी! दया करना- मुझ प्राणी पर!
रहम करना– भटकती जिन्दगानी पर।
मुझसे अहित न हो- किसी प्राणी का!
हे प्रभु! कृपा करना- मुझ अज्ञानी पर।।
जय श्री राम.!
******************************
*रचयिता: प्रभु दयाल रानीवाल*===
====*उज्जैन*{मध्यप्रदेश}*=====
******************************

2 Likes · 2 Comments · 1701 Views
You may also like:
पर्यावरण
Vijaykumar Gundal
“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “
DrLakshman Jha Parimal
✍️एक लाश संवार होती✍️
'अशांत' शेखर
✍️✍️शिद्दत✍️✍️
'अशांत' शेखर
दुआ
Alok Saxena
उम्मीद नही छोड़ते है ये बच्चे
Anamika Singh
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
" जंगल की दुनिया "
Dr Meenu Poonia
जीवन दायिनी मां गंगा।
Taj Mohammad
अकेलापन
AMRESH KUMAR VERMA
एक दुखियारी माँ
DESH RAJ
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किसी ने कहा, पीड़ा को स्पर्श करना बंद कर पीड़ा...
Manisha Manjari
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
सबको दुनियां और मंजिल से मिलाता है पिता।
सत्य कुमार प्रेमी
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
“ सभक शुभकामना बारी -बारी सँ लिय ,आभार व्यक्त करबा...
DrLakshman Jha Parimal
निशां बाकी हैं।
Taj Mohammad
पितृ नभो: भव:।
Taj Mohammad
क्यों किया एतबार
Dr fauzia Naseem shad
भाईजान की बात
AJAY PRASAD
तारीफ़ क्या करू तुम्हारे शबाब की
Ram Krishan Rastogi
इश्क़ पर लिखे कुछ अशआर
Dr fauzia Naseem shad
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
बचपन
Anamika Singh
मन
शेख़ जाफ़र खान
विषपान
Vikas Sharma'Shivaaya'
पंख कटे पांखी
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...