Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 11, 2022 · 1 min read

राम ! तुम घट-घट वासी

मुझे पता है राम
कि तुम घट-घट वासी ।
किन्तु हमारी अल्पमति ये
सहते जो एकान्त उदासी ।
माना तुमको पाकर मन
सच्चिदानंद हो जाता है ।
किन्तु तुम्हें पाने का पथ
अति सरल हृदय ही पाता है ।
माया के विभ्रम में भ्रमता
ये मन इतना न सरल रहा ।
सघन स्वजन छाया में भी
न जाने मन क्यों विरल रहा ।
हो रहा शिलामय जड़ ये मन
अब तुम ही प्रभु उद्धार करो ।
जिस तरह अहिल्या तारी थी
वैसे ही मेरे त्रास हरो ।

2 Likes · 104 Views
You may also like:
नवाब तो छा गया ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️मैं जब पी लेता हूँ✍️
"अशांत" शेखर
तपिश
SEEMA SHARMA
बचालों यारों.... पर्यावरण..
Dr. Alpa H. Amin
इन्सानों का ये लालच तो देखिए।
Taj Mohammad
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
💐प्रेम की राह पर-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐💐परमात्मा इन्द्रियादिभि: परेय💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
कविता में मुहावरे
Ram Krishan Rastogi
शहीद बनकर जब वह घर लौटा
Anamika Singh
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गम तेरे थे।
Taj Mohammad
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
उस दिन
Alok Saxena
*!* रचो नया इतिहास *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आस्था और भक्ति
Dr. Alpa H. Amin
बारिश का सुहाना माहौल
KAMAL THAKUR
नेताओं के घर भी बुलडोजर चल जाए
Dr. Kishan Karigar
*स्मृति डॉ. उर्मिलेश*
Ravi Prakash
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
एक दुखियारी माँ
DESH RAJ
ये मोहब्बत राज ना रहती है।
Taj Mohammad
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
Loading...