Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 10, 2022 · 1 min read

राम के जन्म का उत्सव

राम के जन्म का उत्सव मनायेंगे,
जाने कब ये राम को हृदय में बसायेंगे।
वो तो अपनो से छले गये थे,
परंतु ये उनके नाम पे जग को छल जायेंगे।
वो सबरी के जूठन को भी प्रेम में तोल गये,
परंतु ये तो प्रेम को भी हथियार बनायेंगे।
वो तो इक नन्ही गिलहरी के परिश्रम को भी आंक गये थे,
और ये तो परिश्रमियों का मान भी हनन कर जायेंगे।
पिता की आज्ञा पे वो सब त्याग कर चले थे,
और ये माता पिता से हीं सारे त्याग करवायेँगे।
सीता की अग्निपरीक्षा ले, वो उन्हें हमेशा को खो बैठे थे,
उससे सीखने के बजाए, ये उसे हीं उदाहरण बनायेंगे।
वो तो मर्यादा को सर्वोत्तम बना, मर्यादापुरुषोत्तम कहलाये थे,
और ये तो मर्यादा का भी चीर-हरण कर जायेंगे।
राम के जन्म का उत्सव मनायेंगे,
जाने कब ये राम को हृदय में बसायेंगे।

1 Like · 143 Views
You may also like:
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
पिता
Kanchan Khanna
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H. Amin
तेरा मेरा नाता
Alok Saxena
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
खुदा बना दे।
Taj Mohammad
मैं बहती गंगा बन जाऊंगी।
Taj Mohammad
बस करो अब मत तड़फाओ ना
Krishan Singh
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आया आषाढ़
श्री रमण
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
जाऊं कहां मैं।
Taj Mohammad
🌻🌻🌸"इतना क्यों बहका रहे हो,अपने अन्दाज पर"🌻🌻🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आजमाइशें।
Taj Mohammad
नयी सुबह फिर आएगी...
मनोज कर्ण
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
लगा हूँ...
Sandeep Albela
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ईश्वरीय फरिश्ता पिता
AMRESH KUMAR VERMA
दो दिलों का मेल है ये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H. Amin
"ममता" (तीन कुण्डलिया छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
✍️शरारत✍️
"अशांत" शेखर
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण
Loading...