Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 23, 2022 · 2 min read

रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण

राजा दशरथ के रानी सभ के गर्म धारण के लेल खीर वितरण के संबंध मे रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता हैय।

बाल्मीकि रामायण के अनुसार।

कौशल्यायै नरपति:पायसार्धं ददौ तदा।
अर्धादर्धं ददौ चापि सुमित्रायै नराधिप:।।२७ ।।

ऐसा कहकर नरेश ने उस समय उस खीर का आधा भाग महरानी कौशल्या को दे दिया। फिर बचे हुए आधे का आधा भाग रानी सुमित्रा को अर्पण किया।

कैकेय्ये चावशिष्टार्धं ददौ पुत्रार्थकारणात।
प्रददौ चावशिष्टार्धं पायसस्यमृतोपमम्।।२८।।
अनुचिन्त्य सुमित्रायै पुनरेव महामति:।
एवं तासां ददौ राजा भार्याणां पायसं पृथक्।।२९।।

उन दोनों को देने के बाद जितनी खीर बची रही,उसका आधा भाग तो उन्होंने पुत्र प्राप्ति के उद्देश्य से कैकेई को दे दिया। तत्पश्चात उस खीर का जो अवशिष्ट आधा भाग था,उस अमृतोपम भाग को महाबुद्धिमान नरेश ने कुछ सोच बिचारकर पुनः सुमित्रा को ही अर्पित कर दिया।इस प्रकार राजा ने अपनी सभी रानियों को अलग अलग खीर
बांट दी।

समझे के लेल –

खीर=१६आना(१रु)
कौशल्या- ८ आना
सुमित्रा -४ आना+२ आना=६आना
कैकेई-२ आना
कुल-१६आना

रामचरित मानस के अनुसार –

तबहिं रायं प्रिय नारी बोलाईं। कौशल्यादि तहां चलि आईं।
अर्द्ध भाग कौशल्यहि दींहा।उभय भाग आधे कर कींहा।

उसी समय राजा ने अपनी प्यारी पत्नियों को बुलाया। कौशल्या आदि सब रानियां वंहा चली आई। राजा ने पायस का आधा भाग कौशल्या को दिया और शेष आधे को दो भाग किये।

कैकेई कहं नृप सो दयऊ।रह्यो सो उभय भाग पुनि भयऊ
कौशल्या कैकेई हाथ धरि।दींह सुमित्रिहि मन प्रसन्न करि।

वह उनमें से एक भाग राजा ने कैकैयी को दिया
शेष जो बच रहा उसके फिर दो भाग हुए और राजा ने उनको कौशल्या ओर कैकेई के हाथ पर रखकर अर्थात उनकी अनुमति लेकर और इस प्रकार उनका मन प्रसन्न करके सुमित्रा को दिया।

समझे के लेल –

खीर -१६आना(१रु)
कौशल्या -८आना
कैकेई -४आना
सुमित्रा -२ आना+२आना=४ आना।
कुल-१६आना।

सभ रानी अपन अपन खीर के खैलन आ गर्भधारण कैलन।बाद मे कौशल्या राम के, कैकेई भरत के आ सुमित्रा लक्ष्मण आ शत्रुधन के जनम देलक।

अइ प्रकार खीर बांटे के प्रक्रिया मे रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता हैय।

-आचार्य रामानंद मंडल सामाजिक चिंतक सह साहित्यकार सीतामढ़ी।

1 Like · 55 Views
You may also like:
जिन्दगी को ख़राब कर रहे हैं।
Taj Mohammad
✍️तो ऐसा नहीं होता✍️
'अशांत' शेखर
'भारत माता'
Godambari Negi
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
पहले जैसे रिश्ते अब क्यों नहीं रहे
Ram Krishan Rastogi
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
पिता
Surabhi bharati
कलयुग की माया
डी. के. निवातिया
मित्र
जगदीश लववंशी
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
याद आयेंगे तुम्हे हम,एक चुम्बन की तरह
Ram Krishan Rastogi
सर्वश्रेष्ठ
Seema 'Tu haina'
ईश्वर का वरदान है उर्जा
Anamika Singh
माँ
shabina. Naaz
*रक्षा भारत की करें (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वज्र तनु दुर्योधन
AJAY AMITABH SUMAN
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
इंद्रधनुष
Arjun Chauhan
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
सर रख कर रोए।
Taj Mohammad
ज़िंदा हूं मरा नहीं हूं।
Taj Mohammad
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
'अशांत' शेखर
You are my life.
Taj Mohammad
दीपावली
Dr Meenu Poonia
बर्बादी का तमाशा
Seema 'Tu haina'
गुनाह ए इश्क।
Taj Mohammad
आओ हम पेड़ लगाए, हरियाली के गीत गाए
जगदीश लववंशी
बेचने वाले
shabina. Naaz
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...