Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2022 · 2 min read

रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी के श्री मुख से

रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी के श्री मुख से अग्रवाल धर्मशाला रामपुर के श्रीराम सत्संग भवन में प्रवाहित हो रही है और श्रोताओं की भीड़ प्रतिदिन बढ़ती जा रही है ।आज पन्द्रह जून 2019 शनिवार को सायंकाल पांच बजे से 7:00 बजे तक के समय में तो भीड़ इतनी हो गई कि सत्संग भवन छोटा पड़ गया।
” मेरे राम जी की निकली बरात, अयोध्या से मिथिला चली”…अहा ! कैसा समां महाराज श्री ने बाँध दिया और तबले और बाजे के साथ जैसा सुमधुर वातावरण पंक्तियों के साथ अंत में निर्मित हुआ,वह अद्भुत रसमय था।
” प्रथम बरात लग्न ते आई “-अर्थात ठीक समय पर बरात पहुंच गई ।
“जेहि.क्षण राम मध्य धनु तोड़ा “- प्रसंग राम विवाह का चला था अतः शिवजी का जो धनुष तोड़ा उसमें मध्य शब्द की व्याख्या महाराज जी ने की यह की कि धनुष को मध्य से तोड़ा गया ।दूसरी व्याख्या यह है कि सभा के मध्य में भगवान राम ने उपस्थित होकर धनुष को तोड़ा। शब्दों की यह व्याख्या रामायण में गहन अध्ययन को दर्शाती है।
आज की राम कथा का प्रमुख उपदेश इन शब्दों में रहा-” सबसे सेवक धर्म कठोरा”.. सेवक बनना सबसे कठिन है क्योंकि सेवक वही बन सकता है जिसे केवल सेवक बनने की, सेवा करने की चाह है और किसी प्रकार परिदृश्य में स्वयं को उपस्थित करने की लालसा जिसके मन में नहीं है।रामायणी जी राम कथा को सुमधुर और आकर्षक शैली में मधुर कंठ से श्रोताओं के सामने प्रस्तुत करते हैं और इस बात का ध्यान रखते हैं कि सद् उपदेश जो राम कथा में निहित है वह श्रोताओं तक भली भाँति पहुँच जाए।

121 Views
You may also like:
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
फारसी के विद्वान श्री नावेद कैसर साहब से मुलाकात
Ravi Prakash
मायका
Anamika Singh
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
भोले भंडारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️हम बगावत हो जायेंगे✍️
'अशांत' शेखर
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
पैसों के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
वेदना के अमर कवि श्री बहोरन सिंह वर्मा प्रवासी*
Ravi Prakash
मांडवी
Madhu Sethi
"हमारी यारी वही है पुरानी"
Dr.Alpa Amin
खंडहर में अब खोज रहे ।
Buddha Prakash
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मौत
Alok Saxena
मैंने उस पल को
Dr fauzia Naseem shad
रक्षाबंधन गीत
Dr Archana Gupta
परशुराम कर्ण संवाद
Utsav Kumar Aarya
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
सेहरा गीत परंपरा
Ravi Prakash
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
'नज़रिया'
Godambari Negi
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️वो भूल गये है...!!✍️
'अशांत' शेखर
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
#धरती-सावन
आर.एस. 'प्रीतम'
वार्तालाप….
Piyush Goel
खुशबू
DESH RAJ
कठपुतली न बनना हमें
AMRESH KUMAR VERMA
हिरण
Buddha Prakash
Loading...