Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 8, 2016 · 1 min read

रात

सिर पे चूनर डाली रात
गिर गयी कान की बाली रात

चॉद सितारे मेरे ऑगन
है कैसी मतवाली रात

ऐसे मे अब तुम आ जाओ
हो जाये दीवाली रात

दिल के दाग़ हुये यूं रौशन
हो गयी आज उजाली रात

जलता देख के प्यार मे तेरे
डर गयी मुझसे काली रात

आज़म इक अन्जान डगर की मैने मंज़िल पा ली रात

310 Views
You may also like:
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
पिता
Meenakshi Nagar
बहुमत
मनोज कर्ण
पिता
Mamta Rani
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
गीत
शेख़ जाफ़र खान
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
समय ।
Kanchan sarda Malu
Loading...