Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

रात ही जब हुई मुख़्तसर

आदाब दोस्तो! आज रात फ़िलबदीह में हुई बहुत ही छोटी बह्र की एक ग़ज़ल कुछ यूँ-

मतला-

गो है आवारगी बेश्तर
हो गए शे’र अपने मगर

एक क़त्आ-

क्या गुमाँ नाज़नीनों को है
क्यूँ हैं घबराए हम इस क़दर
आई टोली है जब पील की
टूटते ही रहे हैं शज़र

और तमाम अश्आर-

मेरे अरमाँ सहम से गये
डाली तूने है कैसी नज़र

तेरे आने की हो क्यूँ ख़ुशी
तेरे जाने की है जब ख़बर

रौशनी हो सकी क्या, ये दिल
जबके जलता रहा रात भर

राबिते की वज़ह भी तो है
रूठना तेरा हर बात पर

मक़्ताशुदा एक और क़त्आ-

मंज़िले इश्क़ सर हो तो क्यूँ
रात ही जब हुई मुख़्तसर
वरना तो इश्क़ फ़र्माने को
एक ग़ाफ़िल भी रक्खे जिगर

-‘ग़ाफ़िल’

260 Views
You may also like:
रंग-बिरंगी तितली
Buddha Prakash
अराजकता का माहौल
Shekhar Chandra Mitra
मन की उलझने
Aditya Prakash
भरमा रहा है मुझको तेरे हुस्न का बादल।
सत्य कुमार प्रेमी
महाराष्ट्र की स्थिती
बिमल
समय के उजालो...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
खुद को भी
Dr fauzia Naseem shad
I hope one day the clouds been gone and the...
Manisha Manjari
फरिश्ता से
Dr.sima
“ मेरे राम ”
DESH RAJ
प्यार
विशाल शुक्ल
शायरी हिंदी
श्याम सिंह बिष्ट
ये बारिश के मोती
Kaur Surinder
✍️ए जिंदगी तू कहाँ..?✍️
'अशांत' शेखर
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
मेरा बचपन
Alok Vaid Azad
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
निभाता चला गया
वीर कुमार जैन 'अकेला'
तेरी ज़रूरत बन जाऊं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे देश का तिरंगा
VINOD KUMAR CHAUHAN
बारिश
Saraswati Bajpai
*मुर्गे का चढ़ावा( अतुकांत कविता)*
Ravi Prakash
गीतायाः पठनं मननं वा प्रभाव:
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुस्कुराहट का नाम है जिन्दगी
Anamika Singh
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
शबनम।
Taj Mohammad
मैथिली के प्रथम मुस्लिम कवि फजलुर रहमान हाशमी (शख्सियत) -...
श्रीहर्ष आचार्य
मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
Loading...