Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

रात ही जब हुई मुख़्तसर

आदाब दोस्तो! आज रात फ़िलबदीह में हुई बहुत ही छोटी बह्र की एक ग़ज़ल कुछ यूँ-

मतला-

गो है आवारगी बेश्तर
हो गए शे’र अपने मगर

एक क़त्आ-

क्या गुमाँ नाज़नीनों को है
क्यूँ हैं घबराए हम इस क़दर
आई टोली है जब पील की
टूटते ही रहे हैं शज़र

और तमाम अश्आर-

मेरे अरमाँ सहम से गये
डाली तूने है कैसी नज़र

तेरे आने की हो क्यूँ ख़ुशी
तेरे जाने की है जब ख़बर

रौशनी हो सकी क्या, ये दिल
जबके जलता रहा रात भर

राबिते की वज़ह भी तो है
रूठना तेरा हर बात पर

मक़्ताशुदा एक और क़त्आ-

मंज़िले इश्क़ सर हो तो क्यूँ
रात ही जब हुई मुख़्तसर
वरना तो इश्क़ फ़र्माने को
एक ग़ाफ़िल भी रक्खे जिगर

-‘ग़ाफ़िल’

147 Views
You may also like:
ये सियासत है।
Taj Mohammad
करो नहीं व्यर्थ तुम,यह पानी
gurudeenverma198
पुस्तक समीक्षा -एक थी महुआ
Rashmi Sanjay
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
बरसात में साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
अनजान बन गया है।
Taj Mohammad
नवजीवन
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
Keshi Gupta
यह तो वक्ती हस्ती है।
Taj Mohammad
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
जो बीत गई।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Nityanand Vajpayee
वेवफा प्यार
Anamika Singh
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
"अशांत" शेखर
तपिश
SEEMA SHARMA
मैं तेरा बन जाऊं जिन्दगी।
Taj Mohammad
अंजान बन जाते हैं।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धीरे-धीरे कदम बढ़ाना
Anamika Singh
फूल की महक
DESH RAJ
💐नाशवान् इच्छा एव पापस्य कारणं अविनाशी न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
अनोखी सीख
DESH RAJ
🍀🌸🍀🌸आराधों नित सांय प्रात, मेरे सुतदेवकी🍀🌸🍀🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...