Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 14, 2022 · 1 min read

वह मुझे याद आती रही रात भर।

वह मुझे याद आती रही रात भर।
याद उसकी रुलाती रही रात भर।
❤️
वस्ल की रात में हर मुलाकात में।
गीत को गुनगुनाती रही रात भर।
❤️
अपनी आगोश में भर लिया जब मुझे।
होश मेरे उड़ाती रही रात भर।
❤️
दूर रहकर भी रहती जहन में मेरे।
मुझको जलवे दिखाती रही रात भर।
❤️
मैं तेरे इश्क में तू मेरे इश्क में।
तू तसव्वुर में आती रही रात भर।
❤️
मुंतजिर थी वो छत पे मेरे दीद को।
रोशनी में नहाती रही रात भर।
❤️
इक अजब सी खुशी मेरे दिल में बसी।
मेरा दिल गुदगुदाती रही रात भर।

2 Likes · 1 Comment · 111 Views
You may also like:
नैय्या की पतवार
DESH RAJ
योगा
Utsav Kumar Aarya
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
राह के कांटे हटाते ही रहें।
सत्य कुमार प्रेमी
इश्क़ में ज़िंदगी नहीं मिलती
Dr fauzia Naseem shad
"हमारी यारी वही है पुरानी"
Dr.Alpa Amin
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
अब तो इतवार भी
Krishan Singh
योगी छंद विधान और विधाएँ
Subhash Singhai
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
पिता का दर्द
Anamika Singh
राफेल विमान
jaswant Lakhara
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
बद्दुआ।
Taj Mohammad
✍️हौंसला जवाँ उठा है✍️
'अशांत' शेखर
दोहा में लय, समकल -विषमकल, दग्धाक्षर , जगण पर विचार...
Subhash Singhai
✍️"हैप्पी बर्थ डे पापा"✍️
'अशांत' शेखर
मौसम मौसम बदल गया
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
" आपके दिल का अचार बनाना है ? "
DrLakshman Jha Parimal
✍️जिंदगी का फ़लसफ़ा✍️
'अशांत' शेखर
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
जल है जीवन में आधार
Mahender Singh Hans
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
वो इश्क है किस काम का
Ram Krishan Rastogi
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🍀🌺परमात्मन: अंश: भवति तु स्वरूपे दोषः न🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
खुदा तो हो नही सकता –ग़ज़ल
रकमिश सुल्तानपुरी
गम तेरे थे।
Taj Mohammad
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
Loading...