Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

रात भर सौ सवालों मे उलझा रहा, मेरे जज्वात दिल में मचलते रहे ।।

रात भर सौ सवालों मे उलझा रहा,
मेरे जज्वात दिल में मचलते रहे ।
प्रीत के बोल मुख से न निकले कभी,
हमकदम बन के वस रोज
चलते रहे,
रुख तुम्हारा कभी भी समझ ना सका,
मौसमो की तरह तुम बदलते रहे,
रात भर सौ सवालों मे उलझा रहा,
मेरे जज्वात दिल मे मचलते रहे,
शाम आई गई दिन ढला गुल खिला,
तुम सितारों से छुपते निकलते रहे,
हमको मालूम है सब समझते थे तुम
सब समझ के भी नादान
बनते रहे,
रात भर सौ सवालों मे उलझा रहा,
मेरे जज्वात दिल में मचलते रहे ।।

अनुराग दीक्षित

174 Views
You may also like:
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
अरदास
Buddha Prakash
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
देश के नौजवानों
Anamika Singh
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
Loading...