रातभर तुम्हारे बारे मे लिखा मैने

उस रात नीद नही आ रही थी,
कोशिश थी भुला के तेरी यादे बिस्तर को गले लगा सो जाऊ
पर कम्बख़्त तू थी जो कहीं नही जा रही थी||

नीद की खातिर २ जाम लगाए,
सोचा कि सोने के बाद हमारी बातो को मै कागज पर उतारूँगा
एक कागज उठा सिरहाने रख कर मे सो गया||

रातभर तुम्हारे बारे मे लिखा मैने,
सुबह उठा तो थोड़ा परेशान हुआ क़ि गुफ्तगू के निशान गायब
शायद, शब्द सारी रात आँसुओ से धुलते रहे ||

वो गीले कागज मैने संजोए रखे.
क्योकि अगर कभी मिली तुम मुझको कागज दिखाकर के पूछना है
क्या बात करते थे हम? आज तो बता दो ||

188 Views
You may also like:
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:35
AJAY AMITABH SUMAN
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
करते रहो सितम।
Taj Mohammad
वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
एक दौर था हम भी आशिक हुआ करते थे
Krishan Singh
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
मृत्यु के बाद भी मिर्ज़ा ग़ालिब लोकप्रिय हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
याद आते हैं।
Taj Mohammad
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
जीवन
Mahendra Narayan
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
चल अकेला
Vikas Sharma'Shivaaya'
खामोशियाँ
अंजनीत निज्जर
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]
Anamika Singh
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
एक हम ही है गलत।
Taj Mohammad
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
जलियांवाला बाग
Shriyansh Gupta
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H.
सबसे बड़ा सवाल मुँहवे ताकत रहे
आकाश महेशपुरी
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
Loading...