Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 13, 2016 · 1 min read

राजयोग महागीता::: प्रभु प्रणाम ( घनाक्षरी ) पो ४

२३
श्याम वर्ण मोहन के , परम आनंद के –
सरसिज समान प्रफुल्ल सुनयन हैं ।
नीर- क्षीर सागर में शेषनाग शैया पर ,
जो नारायण रूप में करते शयन हैं ।
जो करते हैं लीलाएँ प्रकट , अप्रकट भी ,
उन परमेश्वर को कोटिश: नमन हैं ।
अच्युत , अनादि , अज , अद्वैत , अनंत रूप,
नित्य जगदीश्वर को कोटिश: नमन हैं ।।२३!!

97 Views
You may also like:
मत करना
dks.lhp
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
राम के जन्म का उत्सव
Manisha Manjari
" इच्छापूर्ति अक्टूबर "
Dr Meenu Poonia
इश्क है यही।
Taj Mohammad
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
" अखंड ज्योत "
Dr Meenu Poonia
✍️"सूरज"और "पिता"✍️
"अशांत" शेखर
सारे द्वार खुले हैं हमारे कोई झाँके तो सही
Vivek Pandey
🍀प्रेम की राह पर-55🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
स्वर्ग नरक का फेर
Dr Meenu Poonia
आपके जाने के बाद
pradeep nagarwal
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H. Amin
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
ख्वाब रंगीला कोई बुना ही नहीं ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरे दिल में कोई और है
Ram Krishan Rastogi
ये लखनऊ है मेरी जान।
Taj Mohammad
अम्मा/मम्मा
Manu Vashistha
आसान नहीं हैं "माँ" बनना...
Dr. Alpa H. Amin
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
कभी मिलोगी तब सुनाऊँगा ---- ✍️ मुन्ना मासूम
मुन्ना मासूम
सास-बहू
Rashmi Sanjay
मेरे दिल के करीब,आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
Loading...