Oct 13, 2016 · 1 min read

राजयोग महागीता:: तृष्णा, स्वार्थ, वासनाएँ, दम्भ( पो८)

राजयोग महागीता:: घनाक्षरी: गुरनक्तानुभव ( अध्याय१)
तृष्णा, स्वार्थ- वासनाएँ, दम्भ , द्वेष, छल जैसे,
विषयों को विष की भाँति त्याग , सद्कार्य है ।
दैहिक , सांसारिक, कामनाओं , अहंकार का ,
ऐसी संकीर्णता का त्याग अपरिहार्य है ।
क्षमा, दया, सत्य– रस उदारता , संतोष का
अमृत की भाँति पान करना स्वीकार्य है ।
यही वीतरागता का , महाशांति प्राप्ति का भी
मोक्ष प्राप्ति का उपाय यही अनिवार्य है ।।अध्याय १ :३!!
-;——– जितेन्द्र कमल आनंद

88 Views
You may also like:
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
एकाकीपन
Rekha Drolia
जबसे मुहब्बतों के तरफ़दार......
अश्क चिरैयाकोटी
खेतों की मेड़ , खेतों का जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
पिता
Manisha Manjari
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
'विनाश' के बाद 'समझौता'... क्या फायदा..?
Dr. Alpa H.
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
तेरा यह आईना
gurudeenverma198
यादें आती हैं
Krishan Singh
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
अम्मा/मम्मा
Manu Vashistha
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
आध्यात्मिक गंगा स्नान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]
Anamika Singh
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...