Oct 20, 2016 · 1 min read

राजयोगमहागीता:: सारात्सार: जितेंद्रकमलआनंद( पोस्ट६७)

सारात्सार:: घनाक्षरी क्रमांक १
———–+-+———————–
एक ही परमेश्वर है, दूसरा नहीं कहो !
करो ज्ञानयोग को सहज या राजयोग ।
द्वैत की न भावना रखकर अद्वैत भाव ,
प्रेम निराकार से ही ,कीजिए ध्यान योग ।
कर्तापन अभिमान से होकर मुक्त आप ,
निर्विचार ,निर्विकार , कीजिए ज्ञान योग ।
आध्यात्मिक विकास में भी रुचि आप लीजिए ,
सभी समस्याओं का जानिए निदान योग।।( १/ २१!!

—– जितेंद्रकमलआनंद

92 Views
You may also like:
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रेम की साधना
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
यादें
Sidhant Sharma
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
औरतें
Kanchan Khanna
"मैंने दिल तुझको दिया"
Ajit Kumar "Karn"
पापा की परी...
Sapna K S
पिता
Anis Shah
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
वो
Shyam Sundar Subramanian
कुछ ख़ास करते है।
Taj Mohammad
मेरे पापा
ओनिका सेतिया 'अनु '
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
मेरे पापा
Anamika Singh
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बेटी....
Chandra Prakash Patel
Loading...