Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Oct 2016 · 1 min read

राजयोगमहागीता: वासुदेव,केशवकीमाधवकीमोहिनीसी:: जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट५३) घनाक्षरी

प्रभु प्रणाम: घनाक्षरी – २
—————————-
वासुदेव, केशव की, माधव की मोहिनी – सी ,
मोहती जो मोहन की छवि अति प्यारी है ।
अजर, अव्यग्र, अज, देवकी के वत्स कृष्ण ,
प्रभु दिव्य– रस के रसिक गिरिधारी हैं ।
अमर , अव्यग्र, ह्रषीकेश जो विराट प्रभु,
साक्षी की सॉवरी– सी सूरत शुचि न्यारी है ।
करता प्रणाम उन्हें ” कमल आनंद ” आज ,
वृन्दावन विहारी जो अजिर।बिहारी हैं ।।

—– जितेन्द्र कमल आनंद

Language: Hindi
Tag: कविता
314 Views
You may also like:
बाल कहानी- चतुर और स्वार्थी लोमड़ी
SHAMA PARVEEN
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
मेरे गाँव का अश्वमेध!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सूरज काका
Dr Archana Gupta
बौद्ध राजा रावण
Shekhar Chandra Mitra
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वक्त गर साथ देता
VINOD KUMAR CHAUHAN
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
Daily Writing Challenge : घर
'अशांत' शेखर
भारत माँ के वीर सपूत
Kanchan Khanna
चलो करें धूम - धड़ाका..
लक्ष्मी सिंह
शब्दों के अर्थ
सूर्यकांत द्विवेदी
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
**कर्मसमर्पणम्**
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किसी को क्या खबर है
shabina. Naaz
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
कारे कारे बदरा जाओ साजन के पास
Ram Krishan Rastogi
युवता
विजय कुमार 'विजय'
शेर
dks.lhp
मजबूर हूँ मज़दूर हूँ..
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
वक्त वक्त की बात है 🌷🌷
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
*बनाए जो विविध मौसम, नएपन की निशानी है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बनेड़ा रै इतिहास री इक झिळक.............
लक्की सिंह चौहान
अबला नारी
Buddha Prakash
शिकवा नहीं है कोई शिकायत भी नही तुमसे।
Taj Mohammad
मेरे दिल को
Dr fauzia Naseem shad
फ़ौजी
Lohit Tamta
Loading...