Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

राजनीति और भ्रष्टाचार

राजनीति और भ्रष्टाचार
पहिये हैं एक गाड़ी के ।
सेवा है राजनीति देशभक्तों का
खेल है ये अनाड़ी के ।।

सफेद लिबास में मत जाना,
नजरें धोखा खा जायेगी ।
भ्रष्टता की कालिमा तुझे
पीठ पीछे नजर आयेंगी ।
अब नहीं होते राम विक्रमादित्य
चस्का है सबको बंगला गाड़ी के ।।

जहां लड़ा जाये सत्ता पाने को,
वहाँ समाज सेवा कोसों दूर है ।
एक दूजे की टांग खींचे जिसे पाने को
उस कुर्सी में कुछ बात जरूर है।
खींचातानी, चुगली निन्दा
जायज सब पैंतरे, इस खेल में  खिलाड़ी के।।

अनपढ़ अपराधी को समाज दूतकारें ।
पर राजनीति इन्हें सहर्ष स्वीकारें ।
लोकतंत्र की पांव है राजनीति
भ्रष्ट रंग ना चढ़ाओ।
नीतियाँ होती आमजन की ,
जिसको अंतिम पंक्ति ले जाओ।
राजनीति पुष्प है,
भ्रष्टाचार खरपतवार है  बाड़ी के।।

262 Views
You may also like:
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
आतुरता
अंजनीत निज्जर
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
संघर्ष
Sushil chauhan
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
अरदास
Buddha Prakash
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
बेरूखी
Anamika Singh
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
Loading...