Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

राखी

****************
“एक डोर, दो बंधे जिससे छोर,
रेशा- रेशा जिसका चित्तचोर,
रोली-अक्षत की खुशबू इसमें,
बंधते है जिससे वचन कठोर।
‘बसती इसमें है मासूम जिद,
ना होता अधिकारों का शोर।
भाई बहन का ऐसा नाता,
रहे सदा एक दूजे की ओर।
#रजनी

385 Views
You may also like:
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
माँ की याद
Meenakshi Nagar
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Little sister
Buddha Prakash
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
आतुरता
अंजनीत निज्जर
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पिता
Ram Krishan Rastogi
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अनामिका के विचार
Anamika Singh
संत की महिमा
Buddha Prakash
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
इश्क
Anamika Singh
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...