Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

रहस्यवादी है भारतीय संस्कृति

रहस्यवादी, किन्तु बिल्कुल स्पष्ट है ‘भारतीय संस्कृति’। सम्पूर्ण दुनिया में ‘भारतीय सभ्यता और संस्कृति’ की अक्षुण्ण रहस्यवादिता को विदेशी विद्वानों और दुश्मनों ने भी माना। क्या मेगास्थनीज़, ह्वेनसांग, मेक्समूलर ! तो कामिल बुल्के, रस्किन बांड आदि तो यहीं के रह गए । अल्लामा इक़बाल ने तो कलमतोड़ प्रशंसा किये।

जिसतरह से ताज़महल हमारी आन- बान- शान है, तो लता मंगेशकर, अमिताभ बच्चन, मुहम्मद रफ़ी भी तो देश के लिए आठवाँ आश्चर्य है । वह भारत रत्न डॉ. अब्दुल कलाम ही हो सकते हैं, जो देश को आजीवन ब्रह्मचर्य रह सबसे मजबूत प्रक्षेपास्त्र दिये, तो अपने साथ गीता और वीणा भी रखे रहे। एक अर्द्धनग्न फकीर ने सत्य -अहिंसा का मंत्र पूरी दुनिया को दिया, जिसे नोबेल सम्मान तो नहीं मिला, किन्तु उनके कार्यों को आगे बढ़ाकर दुनियाभर से 25 से अधिक लोगों को नोबेल सम्मान मिला। इस शख़्स को आइंस्टीन ने सम्मान दिया, तो मार्टिन लूथर किंग ने आत्मसात किया।

ओम पुरी और कैलाश सत्यार्थी को सर्वाधिक विदेशी सम्मान मिला, तो अटल बिहारी वाजपेयी ने संयुक्त राष्ट्र संघ को हिंदीमय कर दिए। दिनकर जी ने ‘संस्कृति का चार अध्याय’ दिए, तो राहुल सांकृत्यायन ने विदेशों से बटोरकर ज्ञान -सुधा लाये ।

….और अनंत रश्मियाँ हैं, जिसने ‘भारत’ की सभ्यता और संस्कृति को दुनिया में सर्वोच्चता प्रदान की । स्वामी विवेकानंद की संस्कृतिलब्धता को कौन तिरोहित कर सकता है ? भगत के एक यही इंकलाब हो सकते थे, सुभाष के ‘जय हिंद’ ! एशिया के नूर ‘रवीन्द्र’ यहीं के ही सकते थे, दूजे के नहीं ! हम भी देश के निर्माण में एक गिलहरी जरूर साबित हो, ऐसी देश की मीमांसा है।

2 Likes · 2 Comments · 135 Views
You may also like:
गीत
Kanchan Khanna
वेदना
Archana Shukla "Abhidha"
✍️लोग जमसे गये है।✍️
"अशांत" शेखर
पानी के लिए लड़ेगी दुनिया, नहीं मिलेगा चुल्लू भर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सम्भल कर चलना ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
दस्तक
Anamika Singh
मजदूर
Anamika Singh
मृत्युलोक में मोक्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
कविता: देश की गंदगी
Deepak Kohli
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
क़ैद में 15 वर्षों तक पृथ्वीराज और चंदबरदाई जीवित थे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
महान है मेरे पिता
gpoddarmkg
ग़र वो है बेवफ़ा बेवफ़ा ही सही
Mahesh Ojha
शेर
dks.lhp
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
लांगुरिया
Subhash Singhai
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
चांदनी रातें भी गमगीन सी हैं।
Taj Mohammad
🍀🌺प्रेम की राह पर-42🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जयति जयति जय , जय जगदम्बे
Shivkumar Bilagrami
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
सुख की कामना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️वो कहना ही भूल गया✍️
"अशांत" शेखर
मेरी लेखनी
Anamika Singh
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...