Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 16, 2021 · 1 min read

रहमतो की बरसात

बरस आती है जब बरसात,
बहुत कुछ लाती है अपने साथ
हर उमर मैं अलग कहानी कह जाती हैं ये बरसात….
बचपन मे स्कूल से घर लोटते वक़्त
एक दुसरे को देकर मात,
भीगते हुए घर पहुचते थे
तब माँ कहती थी उफ ये बरसात….
युवा हुए तो ख्याल आता था उनका
जब भी होती थी बरसात,
वो साथ मे भूट्टे खाना और हो जाना आधी रात
मन से बस यही आवाज आती थी उफ ये बरसात…
तब भी हुए ये बरसात जब लिए उनके साथ फेरे सात,
वो कहते सुनती हो जी
ज़रा पकोडे चाय ला दो हो रही है बरसात,
आज मन ही मन कहती हूँ हाये ये बरसात….
अभी कुछ और दौर चल रहा है ज़िसमे चाहिए तो है बरसात,
ज़िसमे घुला हुआ हो इंसानियत का सेनेटाइज़र
जो दे सभी बुराइयो को मात,
और तब मैं नही हम सब कहेंगे
रहमतो की बरसात!
-सुरभी

5 Likes · 7 Comments · 182 Views
You may also like:
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
Utsav Kumar Vats
कविता 100 संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
Anamika Singh
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
तमन्ना ए कल्ब।
Taj Mohammad
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हंँसना तुम सीखो ।
Buddha Prakash
परिंदों से कह दो।
Taj Mohammad
मां ‌धरती
AMRESH KUMAR VERMA
ये चिड़िया
Anamika Singh
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
संघर्ष
Anamika Singh
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेंढक और ऊँट
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️लॉकडाउन✍️
"अशांत" शेखर
यदि मेरी पीड़ा पढ़ पाती
Saraswati Bajpai
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
युद्ध हमेशा टाला जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
“ विश्वास की डोर ”
DESH RAJ
जाऊं कहां मैं।
Taj Mohammad
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
नई लीक....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
केंचुआ
Buddha Prakash
ये सिर्फ मैं जानता हूँ
Swami Ganganiya
Loading...