Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 21, 2016 · 1 min read

” रहने दो “

‘योग’ ही रहने दो ‘योगा’ न बनाओ…
अ को ‘अ’ ही रहने दो…. यूं ‘आ’ न बनाओ,
योग को ‘योग’ रहने दो….’योगा’ न बनाओ।
मैंने कब इंग्लैंड को ‘इंग्लैंडा’, ब्रिटेन को ‘ब्रिटेना’ कहा,
मेरे हिन्द को ‘हिन्द’ ही रहने दो, ‘इंडिया’ न बनाओ।
अंग्रेजीयत का प्रदर्शन करने वालों से कोई जलन नहीं,
मगर मेरे ‘महाराष्ट्र’ को….. ‘महाराष्ट्रा’ न बनाओ।
मुझे प्यार है असीम…. मेरी भाषा के शब्दों से,
आंध्र को ‘आंध्र’ ही रहने दो… ‘आंध्रा’ न बनाओ।
‘अकबर’ को ‘अकबरा’… ‘माइकल’ को ‘माइकला’ न कहा,
तो अशोक को भी ‘अशोक’ रहने दो… अशोका न बनाओ।
मैंने बाइबल को ‘बाइबल’, कुरान को ‘कुरान’ ही रहने दिया,
तुम भी रामायण को ‘रामायण’ कहो ‘रामायना’ न बनाओ।
हिन्द ने जीसस को ‘जीसस’, मोहम्मद को ‘मोहम्मद’ ही रखा
तो राम को भी ‘राम’ ही रहने दो … ‘रामा’ न बनाओ।
मैंने हर नाम का सम्मान, हर भाषा की इज्ज़त की है,
तो फिर नरेन्द्र को ‘नरेन्द्र’ रहने दो, ‘नरेन्द्रा’ न बनाओ।
योग-दिवस की पूर्व संध्या पर, पुनः निवेदन है मेरा, मेरे योग को योग ही पुकारो “योगा” न बनाओ !

2 Likes · 1 Comment · 228 Views
You may also like:
"पिता"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
जवानी
Dr.sima
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
“NEW ABORTION LAW IN AMERICA SNATCHES THE RIGHT OF WOMEN”
DrLakshman Jha Parimal
सावन
Arjun Chauhan
उसकी मासूमियत
VINOD KUMAR CHAUHAN
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
पहले वाली मोहब्बत।
Taj Mohammad
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
आओ अब लौट चलें वह देश ..।
Buddha Prakash
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
लोकसभा की दर्शक-दीर्घा में एक दिन: 8 जुलाई 1977
Ravi Prakash
पथ पर बैठ गए क्यों राही
Anamika Singh
वह माँ नही हो सकती
Anamika Singh
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
आजादी
AMRESH KUMAR VERMA
" बिल्ली "
Dr Meenu Poonia
अविरल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुरादाबाद स्मारिका* *:* *30 व 31 दिसंबर 1988 को उत्तर...
Ravi Prakash
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
**दोस्ती हैं अजूबा**
Dr. Alpa H. Amin
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...